90 टीमें आज से पॉलीथिन के लिए करेगी छापेमारी

जिला प्रशासन, नगर निगम और पुलिस की टीमें दिनभर रही छापेमारी पर

लालकुर्ती बाजार से शुरू हुआ छापेमारी अभियान शास्त्रीनगर तक चला

Meerut. पॉलिथीन बंदी के पहले दिन रविवार को नगर निगम, जिला प्रशासन और पुलिस की संयुक्त टीम ने करीब 80 किग्रा प्रतिबंधित पॉलीथिन जब्त की तो वहीं अधिकारियों ने शहर के विभिन्न बाजारों में छापेमारी की.

लालकुर्ती बाजार से अभियान शुरू

नगरायुक्त मनोज कुमार चौहान, एडीएम सिटी मुकेश चंद्र, एसपी रणविजय सिंह, सीओ कोतवाली (एएसपी) सतपाल आंतिल, अपर नगरायुक्त नितिन मदान की टीम ने प्रदेश में पॉलीथिन बंदी के प्रथम दिन लालकुर्ती बाजार से छापेमारी अभियान शुरू किया. टीम ने यहां बड़ी मात्रा में प्रतिबंधित पॉलीथिन जब्त की. टीम ने दुकानों में पॉलीथिन की तलाश की. बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों के साथ निगमकर्मियों की छापेमारी से दुकानदारों में खलबली मच गई. अफरा-तफरी में दुकानदारों ने दुकान के शटर गिरा दिए तो वहीं फलों की ठेल-ढकेल को दुकानदार दौड़ाकर ले गए. इस दौरान कई ठेलों के फल भी सड़क पर बिखर गए. टीम ने दुकानदारों को चेतावनी देकर छोड़ दिया.

शहरभर में घूमे अफसर

लालकुर्ती बाजार से बेगमपुल, जीआईसी के सामने मार्केट में अधिकारियों ने छापेमारी की. बच्चा पार्क, हापुड़ अड्डा होते हुए अफसर सोहराबगेट पहुंचे. यहां उन्होंने सब्जी और फलों की दुकानों से प्रतिबंधित पॉलीथिन जब्त की. सेंट्रल मार्केट, शास्त्रीनगर एल ब्लाक आदि क्षेत्रों में बड़ी संख्या में पुलिसबल के साथ पॉलीथिन की धरपकड़ के लिए अधिकारियों ने छापेमारी अभियान चलाया. दिनभर चले इस अभियान में करीब 80 किग्रा प्रतिबंधित पॉलीथिन जब्त की तो वहीं दुकानदारों को प्रतिबंधित पॉलीथिन न रखने की हिदायत दी. नगर निगम के नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. कुंवर सेन, खाद्य सुरक्षा अधिकारी अर्चना धीरान आदि भी छापेमारी में शामिल थे.

90 टीम आज से सड़क पर

एडीएम सिटी ने बताया कि रविवार को ज्यादातर दुकानदारों को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया. सोमवार से अभियान को वृहद रूप दिया जाएगा. उन्होंने बताया कि नगर निगम, पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की 90 टीमें सोमवार से सड़क पर छापेमारी करेंगी. उन्होंने बताया कि चेतावनी के बाद भी यदि दुकानदार के पास से पॉलीथिन जब्त की गई तो अब कड़ी कार्रवाई होगी.

बेफ्रिक भी रहे लोग

शहर में एक ओर प्रशासनिक अधिकारी पॉलीथिन को लेकर अभियान चलाते रहे तो दूसरी ओर आम लोग पॉलीथिन के उपयोग को बेफिक्र बने रहे. बाजारों में लोग पॉलीथिन बैग्स में सामान ले जाते दिखे.