क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: रिम्स अक्सरं अव्यवस्था को लेकर चर्चा में रहता है. कभी मरीजों को दवा नहीं मिलती तो कभी डॉक्टर-परिजन आपस में भिड़ जाते हैं. अब हॉस्पिटल में काम करने वाले स्टाफ्स का एक और अजीबोगरीब कारनामा सामने आया है. जिसे सुनकर आप भी अपने दांतों तले उंगलियां दबा लेंगे. जी हां, हम बात कर रहे हैं रिम्स के एक्सरे डिपार्टमेंट की, जहां मशीनों को ठंडा रखने के लिए एसी तो लगा दी गई लेकिन स्टाफ स्विच ऑन करना ही भूल गए. इसका खामियाजा रिम्स के टेक्निशियन समेत मरीज भुगत रहे हैं. इतना ही नहीं, स्विच आन करने को लेकर कई बार प्रबंधन को चिट्ठी भी लिखी गई. वहीं मौखिक रूप से भी अधिकारियों को सूचना दी गई, लेकिन उसका भी कोई फायदा नहीं हुआ.

हैंग कर रही हैं मशीनें

एक्सरे डिपार्टमेंट में 2017 में दर्जनों एसी इंस्टाल की गई थीं. ताकि रेगुलर काम करने की स्थिति में भी मशीन हैंग न हो. लेकिन एक साल से अधिक समय बीत जाने के बाद भी एसी को चालू नहीं किया जा सका. अब फिर से गर्मी का सीजन शुरू होने को है. ऐसे में मशीनें काम के दौरान हैंग कर रही हैं. इससे मरीजों की जांच प्रभावित हो रही है. वहीं टाइम से उन्हें रिपोर्ट भी नहीं मिल पा रही है. साथ ही मशीन को ठंडा करने के लिए कुछ देर बंद करना भी टेक्निशियनों की मजबूरी बन गई है.

कई एसी के तार भी नहीं जोड़े

एक्सरे विभाग की दर्जनों एसी में से कई ऐसी भी हैं जिनका इंस्टालेशन तो कर दिया गया. लेकिन आजतक उनका तार भी पावर प्वाइंट से नहीं जोड़ा गया है. इस तरह बिना चले ही एसी की गारंटी-वारंटी सब खत्म हो जाएगी. इसके बाद फिर से नई एसी खरीदने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. वहीं पुरानी एसी को बिना चलाए ही स्क्रैप घोषित कर दिया जाएगा. ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि स्टाफ्स की लापरवाही से लाखों रुपए की कैसे बर्बादी होती है.

......

कब-कब लिखी चिट्ठी

-10 सितंबर 2018

-24 अक्टूबर 2018

-24 जनवरी 2019

वर्जन

डिपार्टमेंट में जाकर मैंने राउंड किया था. वहां के प्रभारी ने कई परेशानियों की जानकारी दी है. जल्द से जल्द उसे दूर कराने को कहा गया है.

डॉ. डीके सिंह, डायरेक्टर, रिम्स