- पहले शहर में 16 थे ब्लैक स्पॉट जहां पर हुई थीं 270 मौतें

- बनाए गए 10 नए ब्लैक स्पॉट जहां हुईं 221 मौतें

GORAKHPUR: गोरखपुर में एक नहीं बल्कि 26 सड़कें केवल मौत के लिए जानी जाती हैं. इन सड़कों पर हादसा होने पर अधिकतर केसेज में मौत ही मिलती है. इसका सर्वे करने के बाद आरटीओ, ट्रैफिक और पीडब्ल्यूडी टीम ने इन्हें ब्लैक स्पॉट के रूप में चिन्हित किया. एक ही स्पॉट पर जहां तीन साल में मिनिमम पांच से अधिक हादसे और तीन से ज्यादा मौतें हुई हैं उस जगह को ब्लैक स्पॉट के रूप मे चिन्हित किया जाता है. इन ब्लैक स्पॉट से गुजरने वालों को अवेयर करने के लिए अधिकारियों ने कई चिन्ह लगवाए हैं.

ब्रेकर से होगा स्पीड पर कंट्रोल

धीरे चलें, दुर्घटना बाहुल्य इलाका है, सावधानी हटी, दुर्घटना घटी जैसे स्लोगन लगे बोर्ड इन ब्लैक स्पॉट्स पर हादसे को रोकने के लिए लगाए गए हैं. साथ ही तेज स्पीड को कंट्रोल करने के लिए ऐसे स्पीड ब्रेकर बनाए गए हैं, जहां पर तेज गति में कोई गाड़ी ना गुजर पाए. रोड पर जेब्रा क्रॉसिंग भी बनाई जाती है.

ओवरस्पीड ले रही जान

2016 में हुए सर्वे के अनुसार अधिकारियों की जांच में हादसों का सबसे बड़ा कारण गाड़ी की तेज रफ्तार थी. साथ ही दूसरा सबसे बड़ा कारण लापरवाही से गाड़ी चलाना सामने आया था. इसके अलावा बीते तीन साल का सर्वे करने के बाद 2019 में अधिकारियों ने हादसों की सर्वे रिपोर्ट तैयार की है. इसमें हादसों का सबसे बड़ा कारण तेज रफ्तार में गाड़ी चलाना है. वहीं दूसरा कारण ओवर टेक करना सामने आया है.

एनएच 29 और 28 की सात रोड्स शामिल

पहले 16 ब्लैक स्पॉट गोरखपुर में थे. अब 2019 के सर्वे में 10 नए ब्लैक स्पॉट बढ़ गए. इनमें एनएच 29 और 28 की 7 सड़कों पर ब्लैक स्पॉट बनाया गया है. वहीं एसएच वन की दो और एसएच 64 की एक सड़क पर ब्लैक स्पॉट बनाए गए हैं.

2019 में बढ़ गईं मौतें

2016 में जहां 290 हादसे हुए और 221 मौतें हुई. वहीं 2019 में सर्व रिपोर्ट के मुताबिक 205 हादसों में ही 270 मौतें हो गई.

2016

ब्लैक स्पॉट एक्सीडेंट मौत

16 290 221

2016 के ब्लैक स्पॉट

सोनबरसा, कोनी, कस्बा पीपीगंज, रामनगर करजहां, जंगल धूषण से पिपराइच, चौरी चौरा से भोपा बाजार, बेलो सिधावल, मरचहवा बाबा तिराहा, देवीपुर, रामपुर बुजुर्ग, चवरिया खुर्द, बोकटा, खजांची चौराहा, चौमुखा, भीटी रावत, नौसढ़.

2019

ब्लैक स्पॉट एक्सीडेंट मौत

10 205 270

2019 के नए ब्लैक स्पॉट मौत

नौसड़ 20

कसीहार बगहावीर मंदिर 23

बोकटा 45

दाना पानी होटल 26

भीटीरावत 30

मरचही कुटीर 45

रावतगंज 28

फुटहवा इनार 17

निवियहवा ढ़ाला 18

चौमुखा 18

वर्जन

इन सड़कों पर एक्सीडेंट की संख्या बढ़ने से नए ब्लैक स्पॉट बनाए गए हैं. दुर्घटना को रोकने के लिए बोर्ड और स्पीड ब्रेकर बनवाया गया है.

- डीडी मिश्रा, आरटीओ प्रवर्तन