-

-

-

देहरादून

शिमला बायपास पर थर्सडे सुबह स्कूल जाने के लिए सड़क क्रॉस कर रही एक 11वीं क्लास की छात्रा को डंपर ने कुचल दिया. छात्रा की मौके पर ही मौत हो गई. हादसे के बाद ड्राइवर डंपर लेकर मौके से फरार हो गया. आगे जाकर एक कॉलोनी में लोगों ने उसे पकड़ लिया और पिटाई कर दी. उसे गुस्साई भीड़ से पुलिस ने बमुश्किल बचाया. लॉ एंड आर्डर की स्थिति बिगड़ गई. लोग छात्रा का शव बीच सड़क पर रखकर बायपास से भारी वाहनों की आवाजाही प्रतिबंधित करने की मांग को लेकर हंगामा करने लगे. पुलिस अफसर और 100 से अधिक जवानों ने करीब छह घंटे तक मशक्कत कर उपद्रव रोका. छात्रा के शव का पंचनामा भर डीएम के निर्देश पर बिना पोस्टमार्टम परिजनों को सुपुर्द कर दिया.

एक्सीडेंट शिमला बायपास पर बड़ोवाला पुल पर हुआ. न्यू एरा स्कूल की 11वीं क्लास में पढ़ने वाली गणेशपुर निवासी साजबर सिंह बिष्ट की बेटी मनीषा सुबह 7:15 बजे घर से स्कूल रवाना हुई थी. घर के बाहर से एक्टिवा पर लिफ्ट लेकर वह बड़ोवाला पुलिया पर उतर और स्कूल जाने के लिए सड़क क्रास कर रही थी. इसी बीच प्रेमनगर की तरफ से आ रहे डंपर ने उसे कुचल दिया. डंपर के पिछले टायर के नीचे आकर छात्रा की मौके पर मौत हो गई. डंपर चालक मौके से फरार हो गया और कुछ आगे जाकर डंपर को एक कॉलोनी की सड़क पर उतार दिया. लोगों ने उसे पकड़कर पिटाई कर दी. रोड जाम कर हंगामा शुरू कर दिया.

डंपर लेकर कॉलोनी में घुसा

एक्सीडेंट के बाद ड्राइवर मौके से डंपर दौड़ा ले गया, लेकिन किसी के पीछा कर पकड़ लेने के डर से उसने करीब ढाई किमी आगे जाकर डंपर को सड़क किनारे एक गली में उतार दिया और अंदर शिवराजनगर में पहुंच गया. कॉलोनी में आगे रास्ता बंद था. छोटी गली में डंपर आया देख कॉलोनी के लोगों को शक हुआ. डंपर चालक से पूछताछ की. वह उतर कर भागने लगा तो पब्लिक ने उसे पकड़ लिया. डंपर को बारीकी से देखा तो पिछले टायर पर खून लगा था. इसी बीच किसी के नंबर पर कॉल आई कि एक्सीडेंट में लड़की की मौत हो गई.

ड्राइवर को उतार कर पीटा

हादसे के बाद पटेलनगर थाने की नया गांव चौकी इंचार्ज एसआई जगत सिंह को डंपर चालक के शिवराज नगर में पकड़े जाने की सूचना मिली. वे कार लेकर अकेले उसे लेने पहुंचे. उसे लोगों ने घेर रखा था और पिटाई कर रहे थे. दरोगा ने गुस्से में हमलावर हो रही भीड़ से डंपर चालक की जान बचाने के लिए उसे अपनी कार में बिठाया और लौटने लगे. लोगों ने उसकी कार घेर ली. गाड़ी के आगे खड़े हो गए. दरोगा ने कार से उतरकर उन्हें फिर समझाना चाहा तो दूसरी तरफ से लोगों ने डंपर चालक को कार से उतारकर ढाई किलोमीटर तक पैदल ही मारते-पीटते घसीटते मौके पर ले आए. इस बीच दरोगा ने एक्स्ट्रा फोर्स कॉल कर ली.

100 से अधिक पुलिसकर्मी मौके पर

हादसे के बाद मौके पर आसपास के लोग बड़ी संख्या में एकत्रित हो गए. लोगों ने शिमला बायपास पर आए दिन डंपर वालों की वजह से सड़क हादसों में लगातार हो रही मौतों के विरोध में हंगामा किया, सड़क जाम कर दी और वाहनों में तोड़फोड़ शुरू कर दी. एक्सीडेंट करने वाले डंपर में भी तोड़फोड की गई और उसके चालक की भी पिटाई कर दी. कानून व्यवस्था की स्थिति बिगड़ने की सूचना पर सीओ सिटी तीन थानों पटेल नगर,प्रेमनगर और बसंत विहार से करीब 100 से अधिक पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे और दोपहर बाद जाम खुलवाया जा सका.

विधायक का विरोध

हादसे और विरोध की सूचना पर सहसपुर विधायक सहदेव पुंडीर मौके पर पहुंचे. सड़क रोक कर बैठी महिलाओं को समझाना चाहा तो लोगों ने उनका ही विरोध कर दिया. पब्लिक के विरोध के सामने विधायक को ही बैरंग लौटना पड़ा.