- कैंट फ्लाईओवर हादसे के बाद मंत्री रवींद्र जायसवाल ने किया निरीक्षण

- मुआवजे की संस्तुति करने के भी अफसरों को दिए निर्देश

VARASNASI(12 Oct):

कैंट फ्लाईओवर पर शटरिंग गिरने के हादसे के बाद शनिवार को स्टांप एवं पंजीयन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रवींद्र जायसवाल ने दुर्घटनास्थल का निरीक्षण किया. उन्होंने हादसे के वक्त मौके पर मौजूद सक्षम अधिकारी पर एक्शन लेने और घायलों को मुआवजा देने की संस्तुति करने के निर्देश दिए. डीएम को घायल के इलाज का सारा खर्च सरकार द्वारा वहन करने के निर्देश दिए जा चुके है. एडीएम सिटी को आवश्यक फोर्स मौके पर मुहैया कराने को कहा गया है.

अधिकारी रहे मौजूद

शनिवार को मंत्री के निरीक्षण की खबर मिलते ही एडीएम सिटी, सेतु निगम के जीएम, एसपी ट्रैफिक भी मौके पर पहुंचे जिनसे मंत्री ने दुर्घटना के कारणों की जानकारी प्राप्त की. अफसरों ने बताया कि शटरिंग के वक्त नट-बोल्ट पुराना होने की वजह से खुल गया नतीजतन एक गाटर और छज्जे का कुछ हिस्सा गिर गिया. इसकी चपेट में आकर दो व्यक्ति घायल हो गये जिनमें से एक की हालत गंभीर होने की वजह से उसे ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया. इस दौरान भाजपा नेता जगदीश त्रिपाठी, पार्षद सुशील गुप्ता, विवेक मौर्या, जवाहीर जायसवाल, सुमित जायसवाल, ऐश्वर्य पाठक आदि मौजूद रहे.

बॉक्स

कफ्र्यू लगाकर काम नहीं करा सकते

मंत्री ने कहा कि रास्ता बंद करवाकर या कफ्र्यू लगवाकर काम नहीं करवा सकते हैं, यह व्यवहारिक नहीं है. रास्ता बंद होने से होटल, लॉज वालों के सामने आजीविका का संकट आ जाएगा. रास्ता बंद होने से हजारों यात्रियों को भी दिक्कत होगी. उन्होंने कहा कि सेतु निगम के जीएम के मुताबिक एक व्यक्ति की 24 घंटे यहां ड्यूटी होती है जो अपने सुपरविजन में सभी कार्य करवाता है. उसकी अनुमति के बिना कार्य नहीं शुरू हो सकता है. प्रथमदृष्टया उसी की लापरवाही उजागर हुई है. जांच कमेटी कल रिपोर्ट देगी जिसके बाद दोषियों पर कार्रवाई होगी.