- पटना के 91 घाटों को 21 सेक्टर में बांटा गया

- डीएम ने नासरीगंज से दीदारगंज तक गंगा के छठ घाटों का किया निरीक्षण

PATNA

: दुर्गा पूजा खत्म होते ही प्रशासन छठ पर्व के लिए घाटों को तैयार करने में जुट गया है. गुरुवार को डीएम कुमार रवि और एसएसपी गरिमा मलिक नाव पर सवार होकर नासरीगंज से लेकर दीदारगंज तक छठ घाटों का निरीक्षण किया. डीएम ने कहा कि 91 घाटों को 21 सेक्टर में बांट दिया गया है. सेक्टर पदाधिकारी अपने-अपने सेक्टर के घाटों पर नजर रखेंगे. शनिवार को सभी सेक्टर पदाधिकारी अपने-अपने घाटों की पूरी जानकारी के साथ उपस्थित होंगे.

खतरनाक घाटों की होगी पहचान

डीएम कुमार रवि ने बताया कि छठ आस्था का महापर्व है. छठ व्रतियों और श्रद्धालुओं की सुरक्षा व सुविधा के लिए सभी घाटों पर बुनियादी जरूरत के सामान उपलब्ध कराए जाएंगे. सेक्टर पदाधिकारी घाटों का निरीक्षण, खतरनाक घाटों की पहचान और अन्य सुविधाओं का आकलन करेंगे. गंगा के जलस्तर में कमी आने पर कार्य प्रारंभ करा दिया जाएगा. इसके लिए जल संसाधन विभाग की ओर से भी सात टीमों का गठन किया गया है. नगर निगम को भी अपने स्तर से टीम का गठन करने का निर्देश दिया गया है.

जलस्तर घटते ही शुरू होगा काम

डीएम ने जल संसाधन विभाग के कार्यपालक अभियंता और नगर आयुक्त को निर्देश दिया है कि गंगा के जलस्तर और घाटों की गहराई की नियमित जांच करें. घाट के किनारे नदी में औसतन पांच फीट की गहराई पर बांस-बल्ले लगेंगे. नगर आयुक्त को निर्देश दिया कि गया है कि सभी 91 घाटों पर साफ-सफाई और घाटों की तैयारी प्रारंभ कर दें. जलस्तर में कमी आते ही कार्य प्रारंभ कर देना है. सभी खतरनाक घाटों पर लाल कपड़े लगाए जाएंगे. सभी घाटों की सफाई के साथ-साथ संपर्क पथ का निर्माण कार्य प्रारंभ होगा. घाटों पर सीढ़ी व चाली का भी निर्माण होगा.

31 अक्टूबर से शुरू होगा छठ महापर्व

चार दिनों का छठ महापर्व 31 अक्टूबर को नहाय-खाय के साथ शुरू होगा. एक अक्टूबर को खरना, दो अक्टूबर को पहला अ‌र्घ्य और तीन अक्टूबर को दूसरे अ‌र्घ्य के साथ सम्पन्न होगा.