- 28 अक्टूबर के बाद पहली बार एक्यूआई स्तर में आई गिरावट

- देश में पानीपत की हवा अधिक जहरीली, गाजियाबाद में भी स्थिति चिंताजनक

LUCKNOW: शहरवासियों के लिए एक राहत भरी खबर सामने आई है। यह खबर पॉल्यूशन के ग्राफ से जुड़ी हुई है। करीब 13 दिन बाद एक्यूआई के स्तर में गिरावट दर्ज की गई है, जिससे साफ है कि शहर की हवा में घुला जहर धीरे-धीरे कम हो रहा है। वहीं दूसरी तरफ पानीपत और गाजियाबाद का एक्यूआई स्तर में खासी बढ़ोत्तरी हुई है। पूरे देश में पानीपत पहले और गाजियाबाद दूसरे नंबर पर है। पानीपत का एक्यूआई स्तर 377 और गाजियाबाद का 368 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर दर्ज किया गया है।

देश के शहरों की स्थिति

शहर एक्यूआई स्तर

दिल्ली 321

गाजियाबाद 368

ग्रेटर नोएडा 338

लखनऊ 237

कानपुर 270

नोएडा 344

जिंद 306

पानीपत 377

(आंकड़े माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर में है)

लखनऊ की स्थिति-

डेट एक्यूआई

26 अक्टूबर 155

27 अक्टूबर 186

28 अक्टूबर 305

29 अक्टूबर 314

30 अक्टूबर 326

31 अक्टूबर 352

1 नवंबर 382

2 नवंबर 422

3 नवंबर 400

4 नवंबर 435

5 नवंबर 416

6 नवंबर 339

7 नवंबर 366

8 नवंबर 342

9 नवंबर 312

10 नवंबर 237

(आंकड़े माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर में)

एक सुखद संकेत

सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के आंकड़ों से साफ है कि शहर की हवा में घुला जहर कम जरूर हो रहा है, लेकिन स्थिति अभी चिंताजनक है। जब तक एक्यूआई स्तर 100 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर के नीचे न पहुंच जाए, तब तक स्थिति को बेहतर नहीं कहा जा सकता है। हालांकि विशेषज्ञों की मानें तो 130 से 150 के बीच एक्यूआई स्तर भी कुछ राहत देने वाला हो सकता है।

आज साफ होगी तस्वीर

पिछले दो दिनों से अवकाश होने के कारण रोड पर व्हीकल लोड भी कम है, जिसकी वजह से भी एक्यूआई स्तर में गिरावट हो सकती है। सोमवार को जब ऑफिसेस खुलेंगे, तब रोड पर व्हीकल लोड बढ़ेगा। ऐसे में जब सोमवार शाम पॉल्यूशन बोर्ड की ओर से आंकड़े जारी किए जाएंगे, तब शहर के एक्यूआई स्तर को लेकर तस्वीर साफ हो सकेगी।

28 को था 305

28 अक्टूबर को शहर का एक्यूआई स्तर 305 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर दर्ज किया गया था। इसके बाद लगातार हर दिन एक्यूआई स्तर में बढ़ोत्तरी हुई। चार नवंबर को तो शहर का एक्यूआई स्तर 435 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर पहुंच गया था, जिससे स्थिति बेहद चिंताजनक बन गई थी। इसके बाद एक्यूआई स्तर में गिरावट तो हुई लेकिन एक्यूआई स्तर 300 के नीचे नहीं आया। संडे को उम्मीद नहीं थी कि एक्यूआई स्तर 300 के नीचे पहुंचेगा, लेकिन हालात बेहद सुधरे दिखे। एक्यूआई स्तर 250 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर के नीचे पहुंच गया।

गोमतीनगर में हालात सामान्य

अभी तक गोमतीनगर की हवा भी खासी जहरीली बनी हुई थी। संडे को यहां भी एक्यूआई स्तर 150 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर के नीचे दर्ज किया गया, जिससे वहां की जनता को राहत मिलना तय है। इसी तह अलीगंज में भी खासा सुधार आया। हालांकि लालबाग और तालकटोरा में हालात बेहद चिंताजनक बने हुए हैं। शनिवार के मुकाबले दोनों एरिया में एक्यूआई स्तर डाउन तो हुआ, लेकिन हवा खासी जहरीली है।

पानी का छिड़काव जारी

नगर निगम की ओर से लगातार पानी का छिड़काव कराया जा रहा है। संडे को भी जोन दो और जोन छह में पानी का छिड़काव कराए जाने की जानकारी सामने आई। नगर आयुक्त डॉ। इंद्रमणि त्रिपाठी ने निर्देश दिए हैं कि हर हाल में नियमित रूप से पेड़ों और मार्गो पर पानी का छिड़काव कराया जाए, जिससे धूल न उड़े।

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner