-पॉल्यूशन की वजह से केवल पैचवर्क से चला रहे थे काम, जल्द सिटी की बदहाल रोड का करेंगे निर्माण

-फरवरी में लखनऊ तक का फर्राटे से कर सकेंगे सफर

VARANASI

छह महीने से शहर की खस्ताहाल सड़कों से परेशान आम जनता को जल्द राहत मिलने वाली है. सिटी के तमाम रोड की तस्वीर जल्द बदल जाएगी. लोक निर्माण विभाग ने इसकी तैयारियां शुरू कर दी है. देव दीपावली के बाद शहर की टूटी सड़कों का निर्माण कार्य युद्धस्तर पर शुरू होगा. विभाग का लक्ष्य 15 दिसंबर तक शहर की सड़कों को गढ्डा मुक्त करने का है. पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों की मानें तो सड़कों की मरम्मत का काम सभी स्टेट हाईवे पर भी किया जाना है.

कई बार लगी फटकार

दरअसल वाराणसी की टूटी सड़कें पीडब्ल्यूडी के लिए कई दिनों से परेशानी का सबब बनी हैं. बारिश की वजह से सड़कों की मरम्मत का काम अटका तो हालात बदतर होते चले गये. इस बीच वाराणसी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आगमन हुआ तो वे खुद हकीकत से दो-चार हुए. दरअसल 17 अक्टूबर को मऊ में चुनावी जनसभा को संबोधित करने के बाद सीएम को वाराणसी आना था पर अचानक उनके हेलीकॉप्टर में खराबी आने की वजह से उनको सड़क मार्ग से आना पड़ा. मऊ से वाराणसी तक सड़क का सफर तय करने में सीएम को करीब चार घंटे लग गये. जिसके बाद उन्होंने देर रात सर्किट हाउस में समीक्षा बैठक में अधिकारियों को जमकर फटकार लगायी. साथ ही 30 अक्टूबर तक सड़कों को दुरुस्त करने के सख्त निर्देश दिए थे. इसके बाद डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने भी वाराणसी दौरे पर आने पर सड़कों की जमकर क्लास ली. पेंच कसे और 15 दिन में हालात सुधारने को कहा. पर्यटन मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने भी हाल ही में पीडब्ल्यूडी के अफसरों को तत्काल सड़कें दुरुस्त करने की कड़ी चेतावनी दी है.

पॉल्यूशन ने कराया लेट

तमाम हिदायतों के बाद भी सड़कों का निर्माण करने में पीडब्ल्यूडी नाकाम साबित हुआ. क्योंकि शहर में बढ़ते प्रदूषण की वजह से सड़क निर्माण कार्य शुरू कराने की अनुमति नहीं मिल सकी. अब हालात सामान्य होते देख पीडब्ल्यूडी के अफसरों ने देव दीपावली के बाद सड़कों को दुरुस्त करने की कवायद शुरू कर दी है. सब ठीक रहा तो अगले एक महीने के भीतर वाराणसी और आसपास की सड़कों को सही कर दिया जाएगा.

बॉक्स

लखनऊ का सफर होगा आसान

वहीं, दूसरी ओर वाराणसी से लखनऊ का हाईवे बनने में आ रही दिक्कतें भी जल्द खत्म होने वाली है. सुल्तानपुर में तीन गांवों में जमीन अधिग्रहण में आ रही रुकावट को जल्द दूर कर लिया जाएगा. अधिकारियों की मानें तो अगले ढाई महीने के भीतर वाराणसी से लखनऊ राज्यमार्ग को पूरी तरह आम जनता के लिए खोल दिया जाएगा. अभी वाराणसी से जौनपुर के बीच सड़क निर्माण का कार्य जारी है. वहीं लखनऊ से सुल्तानपुर तक की फोर लेन सड़क का निर्माण पूरा हो चुका है. सुल्तानपुर से जौनपुर तक की सड़क बनने के बाद राजधानी जाने में महज पांच-छह घंटे का वक्त लगेगा.

ये रोड हैं खराब

कचहरी से आशापुर, पाण्डेयपुर से हुकुलगंज, महावीर मंदिर से अर्दली बाजार, चेतगंज से नई सड़क, सिगरा-महमूरगंज, मालगोदाम रोड, भेलूपुर से कमच्छा, गिरिजाघर से रेवड़ीतालाब, मंडुआडीह से डीएलडब्ल्यू, चितईपुर इन रोड पर चलने में लोगों के पसीने छूट जा रहे हैं.

देव दीपावली के बाद सड़कों का निर्माण कार्य युद्धस्तर पर शुरू करने की योजना बनाई जा रही है. प्रदूषण की वजह से सड़कों का निर्माण करने की अनुमति नही मिल रही थी. खराब सड़कों को दुरुस्त करने के लिए मुख्यालय से अतिरिक्त बजट की मांग भी की जाएगी.

सुग्रीव राम, अधिशासी अभियंता

पीडब्ल्यूडी

Posted By: Inextlive