देहरादून (ब्यूरो)। पीएचडी चेंबर व उत्तराखंड पर्यटन के ज्वाइंट वेंचर में आयोजित हिमालयन टूरिज्म अवार्ड में नेपाल पर्यटन और उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद के बीच एक प्रतिनिधिमंडल स्तरीय वार्ता हुई. इस अवसर पर नेपाल व उत्तराखंड के बीच टूरिज्म में ग्रोथ व तमाम टूरिज्म संबंधी एक्टिविटीज पर ज्वाइंट रूप से कार्य किये जाने पर सहमति बनी.

नेपाल बॉर्डर पर 7 पर्यटन सूचना केंद्र खुलेंगे
एडवेंचर टूरिज्म के तहत माउंटेन बाइकिंग, ट्रैकिंग, राफ्िटग जैसी एक्टिविटीज, धार्मिक व सांस्कृतिक टूरिज्म को बढ़ावा देने के साथ ही दोनों देशों के ट्रेवल एजेंट्स के जरिए टूरिस्ट की आवाजाही बढ़ाने पर जोर दिया गया. नेपाल टूरिज्म बोर्ड के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व निदेशक मणीराज लामीछाने व उत्तराखंड टूरिज्म के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व डायरेक्टर (प्रचार) नरेन्द्र सिंह क्वीरियाल ने किया. नेपाल टूरिज्म के प्रतिनिधियों ने जानकारी दी कि नेपाल व उत्तराखंड के बीच टूरिस्ट पर्यटकों की आवाजाही बढ़ाने के लिए जौलजीवी और धारचूला सहित कुल 7 सीमांत क्षेत्रों में पर्यटन सूचना केंद्र स्थापित किये जाने की योजना है.

नेपाल से दून के बीच शुरू होगी हवाई सेवा
नेपाल की ओर से नेपाल की ओर से काठमांडू से देहरादून के बीच एक हवाई सेवा शुरू किये जाने का भी आश्वासन दिया गया. उनके द्वारा उत्तराखंड पर्यटन बोर्ड के प्रतिनिधि मंडल को नेपाल आगमन के लिए और राज्य के ट्रेवल एजेंट्स को नेपाल में आयोजित होने वाले टूरिज्म मार्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए इनवाइट किया गया.

इंडियन करेंसी का मुद्दा भी उठा
नेपाल में भारतीय मुद्रा की स्वीकार्यता को लेकर हुए विवादों पर उत्तराखंड टूरिज्म के डायरेक्टर प्रचार नरेन्द्र सिंह क्वीरियल द्वारा नेपाल टूरिज्म बोर्ड से भारतीय मुद्रा के लेन-देन में सरलता व स्वीकार्यता लाये जाने की रिक्वेस्ट की गई. इसके अलावा दोनों टूरिज्म बोर्डो के प्रतिनिधियों के बीच टूरिज्म सेवा संबंधी तमाम नवाचारों और सोविनियर्स के अलावा लिट्रेचर एक्सचेंज किया गया. इस दौरान पीएचडी चैंबर के अध्यक्ष एसपी कोचर भी उपस्थित थे.

dehradun@inext.co.in