कानपुर। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज दिल्ली के जंतर-मंतर पर साइकिल रैली के जरिए चुनाव 2019 के प्रचार अभियान की शुरुआत की है। इस दौरान इस मंच पर एक खास बात देखनी को मिली है। यहां पर समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव आैर अखिलेश यादव एक साथ एक मंच पर दिखार्इ दिए। इसके अलावा पार्टी के अन्य दूसरे वरिष्ठ नेता आैर हजारों की संख्या में कार्यकर्ता मौजूद रहे। इस दौरान मुलायम सिंह यादव ने संबोधन में कार्यकर्ताआें को बूढ़ों का सम्मान करने की बात कहीं। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी कभी बूढ़ी नहीं होगी।

15 लाख देने का वादा किया था लेकिन खाते में एक भी एक रुपया नहीं दिया

इसके साथ ही पार्टी में लड़कियों आैर नाैजवानों को विशेष जिम्मेदारी देने की बात कही। मुलायम सिंह ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए उन पर जनता को बरगलाने आैर उससे झूठ बोलने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि 15 लाख देने का वादा किया था लेकिन खाते में एक भी एक रुपया नहीं दिया। वहीं अखिलेश ने भी जनता को संबोधित करते हुए कहा कि मौसम अच्छा है, सभी को आज साइकिल चलानी चाहिए थी।  साइकिल का एक पहिया अम्बेडकर विचारधारा और दूसरा लोहिया विचारधारा का है। उन्होंने पीएम मोदी करार्इ नोटबंदी पर भी निशाना साधा।

साइकिल रैली : पार्टी कभी बूढ़ी नहीं होगी,कहते हुए बेटे अखिलेश के साथ बैठे मुलायम सिंह यादव

मुलायम के भार्इ व अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव नहीं दिखार्इ दिए

समाजवादी पार्टी के आज के इस कार्यक्रम में मुलायम सिंह यादव के भार्इ व अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव नहीं दिखार्इ दिए। कहा जा रहा है कि मुलायम सिंह का इस तरह अखिलेश यादव की साइकिल रैली में शामिल होना शिवपाल को एक संदेश देना है। हाल ही में शिवपाल यादव ने यह भी घोषणा की थी कि मुलायम सिंह उनके बैनर तले मैनपुरी से चुनाव लड़ेंगे। शिवपाल ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा का गठन कर पार्टी का अलग झंडा भी बनवा लिया है। समाजवादी पार्टी पिछले दो महीने से देश व प्रदेश की सरकार के खिलाफ साइकिल यात्रा निकाल रही है।

इस योजना पर अखिलेश यादव ने उठाए थे सवाल, मिला जवाब 'सर फिर से चेक करें'

अखिलेश कन्नौज और मुलायम मैनपुरी से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

National News inextlive from India News Desk