सीएम योगी आदित्यनाथ ने किले में स्थित अक्षयवट के शिलापट का किया लोकार्पण

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ : संगम तट पर अकबर के किले में करीब 435 वर्षो से कैद अक्षयवट को गुरुवार को आजादी मिल गई. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने पीएम नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा से त्रिवेणी संगम तट पर किले के अंदर बटन दबाकर अक्षयवट शिलापट का लोकार्पण किया. इसके साथ ही अक्षयवट का द्वार आम श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया. जिसके दर्शन करने का ऐलान पीएम नरेन्द्र मोदी ने पिछले वर्ष 16 दिसम्बर को अन्दावां में हुई जनसभा में किया था.

ढोल-ताशा बजाकर की अगवानी

किला घाट के पास बनाए गए द्वार पर प्रयागराज मेला प्राधिकरण के आचार्य प्रदीप पांडेय के आचार्यत्व में पंडित दीपू मिश्रा, ऋषभ शर्मा, सौरभ मिश्रा व शांतनु शर्मा ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ सीएम योगी आदित्यनाथ का स्वागत किया. जहां से ढोल-ताशा बजाते हुए वीरेन्द्र, संजय, अजीत व मयंक सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या सहित अन्य अधिकारियों को शिलापट तक ले गए. सीएम द्वारा शिलापट का लोकार्पण किए जाने के बाद ढोल-ताशा बजाते हुए उन्हें इंट्री गेट से मूल अक्षयवट तक ले जाया गया.

सीएम ने किया दर्शन, की परिक्रमा

शिलापट का लोकार्पण करने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ प्रवेश द्वार से होते हुए अक्षयवट पहुंचे. जहां उन्होंने मूल अक्षयवट का दर्शन किया और हाथ जोड़कर दो मिनट के लिए ध्यान लगाया. उसके बाद सीएम ने अक्षयवट की परिक्रमा की. सेना के अधिकारियों ने उसके इतिहास को जाना और मेला की अवधि में श्रद्धालुओं के लिए ज्यादा से ज्यादा सुलभ तरीके से दर्शन कराने को लेकर चर्चा की.

13 से दर्शन होगा सुलभ

जब सीएम योगी आदित्यनाथ ने सेना के अधिकारियों से सुलभ तरीके से दर्शन कराने के लिए जानकारी हासिल की तो अधिकारियों ने उन्हें बताया कि तेरह जनवरी से रोजाना मूल अक्षयवट का दर्शन करने के लिए श्रद्धालुओं को इंट्री दी जाएगी. इसके लिए सुबह आठ बजे से समय निर्धारित किया गया है.

गंगा मइया की जय, सरस्वती मइया की जय

अक्षयवट का दर्शन और परिक्रमा करने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या, कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी व डॉ. रीता बहुगुणा जोशी के साथ सरस्वती कूप का दर्शन करने पहुंचे. जहां सबसे पहले उन्होंने मां सरस्वती की आठ फीट की प्रतिमा को प्रणाम किया उसके बाद कूप में झांक कर देखा तो आश्चर्यचकित हो गए. इस दौरान डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने गंगा मइया की जय, सरस्वती मइया की जय का कई बार उद्घोष किया. इस बीच सीएम ने चांदी के बहुपात्र से मां सरस्वती की आरती उतारी.

कमिश्नर ने बताई स्रोत की महिमा

सीएम ने मां सरस्वती की आरती उतारी तो उसके बाद मुड़कर दूसरी ओर जा रहे थे तब कमिश्नर डॉ. आशीष कुमार गोयल ने सीएम को बगल में छोटी सरस्वती की प्रतिमा के नीचे से निकलने वाले सरस्वती कूप का जल दिखाया. डॉ. गोयल ने सीएम को बताया कि प्रतिमा के नीचे से सरस्वती कूप का जल निकाला गया है जो वापस कूप में जाएगा. इसके बाद सीएम श्री आदित्यनाथ व डिप्टी सीएम श्री मौर्या ने उस जल को मत्थे से लगाया.