यूपी के बाहर के छात्रों के लिए सभी कोर्सेज में 20 फीसदी सीटें होंगी आरक्षित

छात्र संख्या के आधार पर

प्रदेश के बाहर भी बनाये जायेंगे परीक्षा केन्द्र

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी छात्रों की संख्या बढ़ाने के लिए इस बार कई नए बदलावों के साथ आ रही है. यूनिवर्सिटी ने प्रदेश के बाहर के छात्रों को प्रदेश के कॉलेजेज में एडमिशन लेने के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से सभी कोर्सेज में 20 फीसदी सीटें आरक्षित करेगी. इस बार सभी इंट्रेंस सिर्फ ऑफलाइन मोड में कंडक्ट कराये जाएंगे ताकि ग्रामीण परिवेश के छात्रों को बराबर मौका मिले. यह बातें शनिवार को यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार डॉ. नन्द लाल सिंह ने शेयर कीं.

आनलाइन भरे जा रहे हैं फॉर्म

उन्होंने बताया कि यूनिवर्सिटी के कोर्सेज में एडमिशन के लिए ऑनलाइन फॉर्म भरे जा रहे हैं. यह प्रक्रिया 15 मार्च तक चलेगी. प्रवेश परीक्षा 21 अपै्रल, रविवार को आयोजित की जायेगी. इंट्रेंस का रिजल्ट मई के अंतिम सप्ताह में घोषित कर दिए जाने का लक्ष्य है. प्रेस क्लब सभागार में मीडिया से मुखातिब होते हुए उन्होंने यह जानकारी दी. उनके साथ युनाइटेड ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के जगदीश गुलाटी और आईईआरटी के डायरेक्टर डॉ. विमल मिश्रा भी मौजूद रहे.

पूरी परीक्षा होगी ऑफलाइन

एकेटीयू इस बार पूरा इंट्रेंस एग्जाम सिर्फ आफलाइन मोड में कंडक्ट करायेगी

पूर्व के वर्षो में यह सुविधा आफलाइन के साथ आनलाइन मोड में उपलब्ध थी

इस बार दो सौ मेधावी छात्र-छात्राओं को यूनिवर्सिटी की और से लैपटॉप दिए जाएंगे

इसके लिए छात्रों का चयन पिछले साल आयोजित प्रवेश परीक्षा में मेरिट के (क्रम में ऊपर से नीचे की ओरर) आधार पर होगा

पहली बार उत्तर प्रदेश के बाहर के छात्रों के लिए सभी पाठ्यक्रमो में 20 फीसदी सीटें आरक्षित की जाएंगी

यूनिवर्सिटी ने तय किया है कि इस बार 17 जुलाई से कक्षाएं शुरू हो जाएंगी

यह फैसला टाइमली कोर्स कम्प्लीट करने के टारगेट को ध्यान में रखकर लिया गया है

इससे छात्रों को कौशल विकास के लिए इंटर्नशिप और सर्टिफिकेशन कोर्सेस करने के अवसर मिलेंगे

प्रदेश के अलावा देश के अन्य हिस्सों में भी छात्र संख्या के आधार पर परीक्षा केन्द्र बनाये जाएंगे

मास्टर कोर्स में डायरेक्ट एडमिशन नहीं

पहली बार एकेटीयू से जुड़े कॉलेजेस में यूजी प्रोग्राम बीवोक और बी. प्लान तथा पीजी कोर्स ड्यूल डिग्री एमटेक कोर्स में प्रवेश लिया जाएगा.

बीटेक और एमटेक की पढ़ाई छात्र पांच वर्ष में पूरी कर सकेंगे

एमटेक, एमआर्क, एमफार्मा और एमडीईएस में इंट्रेंस में शामिल होने वाले ही दाखिला पा सकेंगे

पहले इन कोर्सेस में मेरिट के क्रम में डायरेक्ट एडमिशन दिया जाता था.

जॉबब/प्लेसमेंट के ऑप्शन बढ़ाने के लिए यूनिवर्सिटी इंडस्ट्री इंटरफेस सेल की स्थापना करेगी

आने वाले समय में 50 हजज्र से ज्यादा जच्ॅब आप्च्र्युनिटी यूनिवर्सिटी कैम्पस प्लेसमेंट के माध्यम से उपलब्ध कराने के लक्ष्य पर कार्य कर रहा है

इस साल से यूनिवर्सिटी डिजिटल लर्निंग की व्यवस्था करने जा रही है. लखनऊ और नोएडा कैम्पस में दो अत्याधुनिक स्टूडियो तैयार हैं. इंडस्ट्री के लोगों से मिलकर कुछ ऐसे वीडियो बनाने की तैयारी है जो स्टूडेंट्स के लिए जॉब अप्लाई करने से लेकर सेलेक्शन प्रॉसेस की मुश्किलों का समाधान दे सके.

-डॉ. नंद लाल सिंह,

रजिस्ट्रार एकेटीयू