क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : झारखंड का जामताड़ा जिला साइबर अपराध लिए पूरे देशभर में बदनाम हो चुका है. इस जिले के करमाटांड में रहने वाले साइबर क्रिमिनल्स देशभर के लोगों को अपने जाल में फंसाकर उनके अकाउंट से दनादन रुपए उड़ा रहे हैं. पुलिस की गिरफ्त में आए साइबर क्रिमिनल समीर मंडल की जब पुलिस ने कुंडली खंगाली तो पूरे परिवार के इसमें संलिप्त होने की बात सामने आई. मालूम हो कि रांची के एक अखबार के संपादक के खाते से 1.17 लाख रुपए अवैध तरीके से निकाल लिए जाने के मामले में पुलिस ने समीर को जामताड़ा से गिरफ्तार किया है.

आलीशान घर देखकर पुलिस दंग

रांची पुलिस की टीम जब जामताड़ा के क्त्रिश्चियन पाड़ा स्थित नीरज कुमार और समीर मंडल को पकड़ने के लिए उसके घर पहुंची तो घर का डेकोरेशन देकर पुलिस के अफसरों की आंखें खुली रह गई. समीर और नीरज के घर में न तो कोई नौकरी करता है और न ही कोई बिजनेस. बावजूद इसके दोनों का अलग-अलग एक मंजिला मकान है. घर में 50 लाख से अधिक का डेकोरेशन किया गया है. नीरज जिस पलंग पर सोता है उसकी कीमत लगभग 2 लाख है. वहीं नीरज ने अपने बच्चों के लिए 2 लाख से अधिक के खिलौने घर में रखे हुए थे. घर की महिलाओं के पास भी जेवरात की कोई कमी नहीं दिखी.

जला देते हैं सिम कार्ड

साइबर ठग लोगों को ठगी का शिकार बनाने के बाद मोबाइल सेट और सिम कार्ड आदि को नष्ट कर देते हैं. अखबार के संपादक से जिस मोबाइल और सिम कार्ड सेट नीरज ने ठगी की थी. उसे भी जामताड़ा स्थित अपने घर में जलाकर नष्ट करने का प्रयास किया था. छापेमारी के दौरान पुलिस ने नीरज के पास से जला हुआ मोबाइल सेट भी बरामद किया है.

फैमिली ने की है करोड़ों की ठगी

नीरज और समीर मंडल ने पूछताछ में खुलासा किया है कि उनके परिवार में शामिल रिश्तेदारों ने अब तक 25 करोड़ से अधिक की ठगी की है. रांची की सिटी एसपी सुजाता वीणापाणी ने बताया कि साइबर अपराधियों के खिलाफ लगातार अभियान चलाया जा रहा है. उसी क्रम में यह फैमिली पकड़ी गई है. फिलहाल, अभी इस मामले में कई लोगों की तलाश है. जिनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीम अभी भी जामताड़ा में छापेमारी कर रही है.