-हृदय से शरीर के अन्य भागों में ब्लड ले जाने वाली महाधमनी की बीमारी पर हुई चर्चा

PRAYAGRAJ: धमनियां रक्तवाहिकाएं होती हैं. यह हार्ट से शरीर के अन्य भागों में ऑक्सीजनयुक्त रक्त लेकर जाती हैं. महाधमनी के बढ़ जाने से लक्षणों में पेट में दर्द, पीठ दर्द और पैर दर्द होता है. कभी कभी इस बीमारी का कोई शारीरिक लक्षण सामने नहीं आता. यह बात नाजरेथ हॉस्पिटल के वरिष्ठ हार्ट स्पेशलिस्ट डॉ. ओमर हसन ने एओरटिक अन्यूरिज्म जागरुकता विषय पर आयोजित सेमिनार में कहीं. वह रविवार को इलाहाबाद मेडिकल एसोसिएशन की ओर से आयोजित वैज्ञानिक संगोष्ठी में बतौर वक्ता संबोधित कर रहे थे. सेमिनार की अध्यक्षता एएमए उपाध्यक्ष डॉ. सुजीत सिंह ने की.

खतरनाक हो सकता है अन्यूरिज्म

उन्होंने कहा कि यदि अन्यूरिज्म बड़ा हो जाता है तो वह फट भी सकता है. इसकी वजह खतरनाक रक्तस्राव या मौत भी हो सकती है. ज्यादातर अन्यूरिज्म एओरटा (मुख्य धमनी) में होते हैं. जो छाती और पेट से होकर हार्ट तक जाती हैं. अन्यूरिज्म का पारिवारिक इतिहास होने पर या धूम्रपान करने वाले 75 साल तक के लोग के बीच इसका परीक्षण कराने की सलाह दी जाती है. डॉ. ओमर ने अन्यूरिज्म का पता लगाने केलिए उपस्थित डॉक्टर्स को इमेजिंग परीक्षण, दवाओं और सर्जरी के तरीकों से परिचित कराया. सेमिनार में डॉ. आरकेएस चौहान, डॉ. जीएस सिन्हा, डॉ. जीएल गुप्ता, डॉ. स्वतंत्र सिंह, डॉ. नीरज त्रिपाठी आदि उपस्थित रहे. संचालन एएमए सचिव डॉ. राजेश मौर्या और वैज्ञानिक सचिव डॉ. आशुतोष गप्ता ने किया. एएमए की ओर से वक्ताओं और श्रोताओं का आभार व्यक्त किया गया.

Posted By: Inextlive