एयू के वाइस चांसलर और महिला की बातचीत का कथित टेप एबीवीपी के राष्ट्रीय मंत्री ने मीडिया को जारी किया

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर और दिल्ली में रहने वाली देश के चर्चित साहित्यकार की विधवा महिला के साथ संबंधों के हाई प्रोफाइल केस में सोमवार को एक और नया मोड़ आ गया. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय मंत्री और इविवि के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष रोहित मिश्रा ने प्रेस क्लब में मीडिया से मुखातिब होते हुए 33.20 मिनट का एक आडियो जारी किया. दावा किया कि बातचीत वीसी और साहित्यकार की विधवा के बीच हो रही है. आडियो में तमाम ऐसे शब्दों का इस्तेमाल है जिसे प्रकाशित नहीं किया जा सकता. प्रेस कांफ्रेंस में आडियो शेयर होने के चंद मिनट के भीतर यह सोशल मीडिया पर वायरल हो गया.

बातचीत के सम्पादित अंश

वीसी हेलो..क्या छुप-छुप के बातचीत कर रही हो..जरा जोर से बात करो यार..बीप बीप..मेरा दिल आपने वहीं से ले लिया था उड़ाके..बीप बीप..

महिला आपने बैडमिंटन नहीं खेला इतने दिनो से..

वीसी.. हां

महिला.. मैं खेलूंगी.

वीसी.. खेलेंगे खेलेंगे.

महिला.. इफ यू आर कनेक्टेड हिरोइन तो यू आर हीरो नाऊ

वीसी.. थैंक्स फॉर काम्पलीमेंट

महिला.. हीरो बनने के लिए सलमान खान बनना जरूरी नहीं है. आप कहते हैं मैं जेब में दो-दो नौकरी लेकर चल रहा हूं. नौकरी चली गई तो मुझे दु:ख नहीं होगा.

वीसी, मैने एक बार पब्लिकली स्टेटमेंट दिया था. एक तरफ पूरा हिन्दुस्तान एक तरफ हांगलू. जोरदार ठहाका

महिला उन्हें दो नौकरी का मतलब बताते हुए इश्किया अंदाज में कहती है आप एक नौकरी इश्क की कर रहे हैं हमने सोचा दूसरी हम ले लेते हैं..बीच में वीसी, आई एम नॉट वाइस चांसलर.

महिला, हू आई एम ऑफ यू

वीसी, यू ऑर माई जॉन. वीसी ने महिला से बुजुर्ग साहित्यकार के साथ शादी का इशारा करते हुए पूछा इतना जल्दी क्यों किया मैं जानना चाहता हूं..बीप बीप..

महिला, कितना खराब लगता है सुनकर वो (दिवंगत साहित्यकार) नहीं है. अब मैं अकेली नहीं हूं

वीसी, मैं आपके अंदर सब इंटलैक्चुअल जगाना चाहता हूं. आपमें जितनी क्षमता है सबको काबू में होना चाहिए.

महिला, अपने पति के बारे में कहती है कितना खूबसूरत आदमी था मेरे सामने चिता में जला दिया. मैं भी मर जाऊं कुछ नहीं है जिंदगी में. बहुत अच्छा लग रहा है आप हैं.

वीसी, गुड गुड. आपको इनवाइट करेंगे लेक्चरबाजी करोगी, लिखोगी, बोलोगी एकदम पुनर्जन्म जैसा होगा

महिला, आपने दो चीजों का चार्ज लिया है ए फॉर इलाहाबाद यूनिवर्सिटी बी फॉर..यू ऑर ब्रिलियंट, कैपेबल, डायनमिक. आप खूबसूरत बहुत हैं.

वीसी, नॉट मोर दैन यू.

महिला, नहीं हमसे भी ज्यादा हैं आप

वीसी, 08 को मैं आ रहा हूं. कैसे आऊंगा.

महिला, मैं आपको ड्राइवर राजू का नम्बर दे दूं. बात आगे बढ़ती है तो इस बात पर जाकर टिकती है कि क्या पहनना अच्छा लगता है. वीसी एक विशेष कपड़े का जिक्र करते हुए कहते हैं कि दिल्ली में चलता है कश्मीर में नहीं.

महिला थोड़ा शान्त हो जाती है तो उन्हें वीसी टोकते हैं. महिला कहती है सुन रहे हैं आपका प्रवचन. लास्ट में इलाहाबाद यूनिवर्सिटी को लेकर भी कुछ अपशब्दों का प्रयोग शामिल है..जारी

(इस आडियो में बातचीत करने वाले वीसी ही हैं, इसका दावा दैनिक जागरण आई नेक्स्ट नहीं करता. इस डेजीग्नेशन का इस्तेमाल एबीवीपी के राष्ट्रीय मंत्री के बयान पर किया गया है)