-कोरोना से मृत इंजीनियर वीरेंद्र सिंह की मां और छोटे भाई स्वस्थ होकर गए घर

PRAYAGRAJ: कोरोना से अपने 47 साल के बेटे को खोने वाली 85 साल की बुजुर्ग महिला ने आखिरकार बुधवार को कोरोना को मात देकर जिंदगी की जंग जीत ली। एसआरएन हॉस्पिटल में भर्ती लूकरगंज के परिवार के पांच लोगों में बुजुर्ग महिला और उनके बेटे की रिपोर्ट निगेटिव आई। इसके बाद बाद बुधवार को दोनों को डिस्चार्ज कर दिया गया।

गजब की दिखाई जीवटता

गौरतलब है कि 85 साल की इस महिला केबेटे की मौत कोरोना संक्रमण से हो चुकी है। इसके बाद यह भी जांच में पाजिटिव आई थी और इनका इलाज एसआरएन हॉस्पिटल में किया जा रहा था। इलाज के दौरान इन्होंने गजब की जीवटता दिखाई और इस महामारी को हरा दिया। डॉक्टर्स का कहना है कि बीच में हीमोग्लोबिन कम होने से उनको दो यूनिट ब्लड भी चढ़ाना पडा। इसके बाद उनकी हालत में लगातार सुधार नजर आया। बुधवार को रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद दोनों को डिस्चार्ज कर दिया गया। इस परिवार की एक बहू, मृत इंजीनियर की सास और पत्नी अभी भर्ती हैं। उनकी सैंपल रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

डिस्चार्ज होकर उन्होंने लोगों को संदेश दिया कि इस बीमारी से जीता जा सकता है। बस इसके लिए आत्मविश्वास की आवश्यकता है। बुजुर्ग महिला ने यह कर दिखाया। गैस्ट्रो विभाग के स्टाफ का सैंपल जांच के लिए भेजा जा रहा है। जल्द ही रिपोर्ट भी आ जाएगी।

-प्रो। एसपी सिंह, प्रिंसिपल, एमएलएन मेडिकल कॉलेज

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner