dhruva.shankar@inext.co.in
PRAYAGRAJ: संगम की रेती पर सात दिनों के बाद दुनिया के सबसे बड़े धार्मिक और सांस्कृतिक उत्सव कुंभ का श्रीगणेश हो जाएगा. इसकी ब्रांडिंग में स्वयं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से लेकर उप्र के सीएम और उनकी पूरी कैबिनेट लगी हुई है. इस कड़ी में एक ऐसा नाम भी जुड़ गया है, जिन्होंने प्रयागराज की सरजमीं से निकलकर बॉलीवुड के आसमां में अपना मुकाम बनाया है. जीहां, सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ने भी कुंभ की ब्रान्डिंग की बागडोर संभाल ली है. महानायक ने बुला रहा है कुंभ स्लोगन के साथ उसकी महत्ता का गुणगान वीडियो में किया है और अपनी यादों को भी ताजा किया है.

नहीं ली कोई फीस
महानायक अमिताभ बच्चन ने ऐसी नजीर पेश की है कि जो मिसाल बन गई है. बिग बी ने कुंभ की ब्रांडिंग के लिए जो वीडियो बनाया है उसके लिए उन्होंने कोई फीस नहीं ली है. क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी अनुपम श्रीवास्तव की मानें तो पर्यटन विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने कुंभ की ब्रांडिंग के लिए बिग-बी से बातचीत की थी. इसके बाद बिग बी ने वीडियो के लिए कोई फीस न लेने की बात कही.

खास बातें

-पर्यटन विभाग ने अपने ट्विटर हैंडल से सदी के महानायक अमिताभ बच्चन द्वारा कुंभ की ब्रांडिंग को लेकर बनाए गए वीडियो को शुक्रवार को शेयर किया था.

-विभाग की ओर से अभी तक जो दो वीडियो शेयर किया है उसकी थीम 'बुला रहा है कुंभ' है.

-एक वीडियो चालीस सेकंड का और दूसरा वीडियो 34 सेकंड का है.

पहले वीडियो का अंश
अमिताभ बच्चन ने चालीस सेकंड के पहले वीडियो में बताया है कि 'देखिए कुंभ में आस्था तो है ही. विज्ञान भी है. आकाश के विशेष नक्षत्र मिलते हैं. तब धरती पर कुंभ होता है. सूर्य और चंद्रमा मकर में प्रवेश करते है और उसी समय बृहस्पति वृष भ में प्रवेश करता है तो होता है कुंभ. उस समय संगम में स्नान करना माइंड, बॉडी और सॉल नई ऊर्जा भरता है'.

दूसरे वीडियो का अंश
अमिताभ बच्चन : 'मुझे दो, तीन बार कुंभ जाने का अवसर मिला है. जब-जब गया हूं वहां से अचंभित होकर लौटा हूं. मानवता का यह महोत्सव सचमुच अद्भुत होता है. यूनेस्को ने भी कुंभ को मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर माना है'.

अवनीश सर ने अमिताभ बच्चन से कुंभ की ब्रांडिंग करने के लिए कई बार बातचीत की थी. बातचीत फाइनल होने के बाद महानायक ने ब्रांडिंग के लिए कई वीडियोज बनाए हैं. इसके लिए उन्होंने कोई फीस नहीं ली है.

-अनुपम श्रीवास्तव, क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी