4 गोवंश तक रख सकेंगे, एक गोवंश पर मिलेंगे 30 रुपए रोजाना

गोवंश संरक्षण केंद्रों की समीक्षा, अधिकारियों को कड़े निर्देश

Meerut. पशुप्रेमी गोवंश की सेवा करें. सरकार उनकी मदद करेगी. शासन द्वारा रोजाना एक गोवंश पर 30 रुपए की मदद की जाएगी. पशुप्रेमी अधिक से अधिक 4 गोवंश रख पाएंगे. 120 रुपए की मदद की जाएगी. शासन द्वारा निराश्रित गोवंश की सेवा करने वाले पशुप्रेमियो को प्रोत्साहित किया जा रहा है. 24 जुलाई तक गो सेवा केंद्रों में रह रहे गोवंशों को ही पशुप्रेमियों को दिया जाएगा. पशु चिकित्सा अधिकारी और पंचायत कमेटी के प्रमाण के बाद ही ऐसे पशुपालकों को भुगतान किया जाएगा. गुरुवार को कमिश्नर अनीता सी मेश्राम ने गोवंश संरक्षण के निर्देश अधिकारियों को दिए.

हर जनपद में केंद्र

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्राथमिकता वाले निराश्रित गोवंश संरक्षण केंद्र की प्रगति रिपोर्ट को कमिश्नर ने खंगाला. कमिश्नर ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2018-19 में स्वीकृत मंडल के 6 स्थाई गोशाला केंद्रों का निर्माण आगामी 30 सितंबर तक पूरा हो जाएगा. इसके बाद 1-1 मॉडल गोसेवा केंद्र हर जनपद में खोला जाएगा. गत 6 जून को हुई बैठक के निर्देशों का अनुपालन न होने पर कमिश्नर ने अधीनस्थों की जमकर क्लास लगाई. और अगले दो दिन में रिपोर्ट न देने पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए.

गोबर से कंपोस्ट

आयुक्त सभागार में कमिश्नर ने आदेश दिए कि पशु चिकित्सा अधिकारी यह प्रमाण पत्र दें कि उनके जनपद में गौसेवा केंद्रों में गोबर से कंपोस्टिंग बनाने की व्यवस्था की जा रही है. उन्होंने गो सेवा केंद्रों में साफ-सफाई, प्रकाश व्यवस्था, साफ -पानी की व्यवस्था, अच्छे चारे और नियमित हेल्थ चेकअप के निर्देश अधिकारियों को दिए. कमिश्नर ने पशुओं को छुट्टा सड़क पर छोड़ने वालों के खिलाफ की गई कार्रवाई के बारे में पूछा कि अब तक क्या-क्या कार्रवाई जनपद स्तर पर की गई. आईजी रेंज आलोक सिंह, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी मेरठ डॉ. एके सिंह, अपर नगर आयुक्त नगर निगम गाजियाबाद आरएन पाण्डेय आदि इस दौरान मौजूद थे.