क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ:बिरसा मुंडा एयरपोर्ट के एटीसी रूम में गुरुवार की सुबह अचानक सूचना आई कि विमान नम्बर एक्सवाईजेड में हाईजैकर घुस आए हैं. 142 पैसेंजर के साथ प्लेन हाईजैक कर लिया गया है. पूरे एयरपोर्ट पर इस सूचना के साथ अफरा-तफरी मच गई. विमान रनवे पर खड़ा था और उसके चारों तरफ सुरक्षा कड़ी करने की कवायद शुरू की जानी थी. आनन-फानन में एंटी हाईजैकिंग कंट्रोल रूम को एक्टिवेट कर दिया गया और सीआईएसएफ, झारखंड जगुआर, एटीएस समेत सभी सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट मोड पर आ गई. प्लेन को 7 मिनट के भीतर चारों तरफ से घेर लिया गया. इसके बाद बेहतरीन तरीके से कमांडोज ने एंटी हाईजैकिंग प्लान पर एक्शन लेते हुए विमान को हाईजैकर से मुक्त कराया. इस ऑपरेशन में हाईजैकर को ढेर करते हुए सभी यात्रियों को सकुशल प्लेन से बाहर निकाला गया.

कुछ देर सकते में रहे लोग

पूरे ऑपरेशन के दौरान एयरपोर्ट को हाई अलर्ट मोड पर रखा गया था. एयरपोर्ट पर मौजूद लोगों को लगा कि सच में विमान का अपहरण कर लिया गया. लोग सकते में आ गए और जो जहां खड़ा था वहीं स्तब्ध रहा. ऑपरेशन खत्म होने के बाद लोगों को बताया गया कि मॉक ड्रिल चल रहा था.

ऐसे हुआ मॉक ड्रिल

एयरपोर्ट पर गुरुवार की सुबह 10 से 11 बजे के बीच एंटी हाईजैकिंग मॉकड्रिल का आयोजन किया गया. सुबह 10 बजे एटीसी रांची को फलाईट के पायलट ने सूचना दी कि 142 यात्रियों के साथ विमान को हाईजैक कर लिया गया है. इसके बाद तुरंत अलर्ट की घोषणा करते हुए एंटी हाईजैकिंग कंट्रोल रूम को एक्टिवेट कर दिया गया. इसके बाद एंटी हाईजैकिंग अध्यक्ष के निर्देश पर के औसूब ने विमान को कॉर्टन किया और झारखंड एटीएस के साथ ज्वाइंट ऑपरेशन करते हुए बंधक यात्रियों के साथ विमान को हाईजैकर से मुक्त कराया गया. झारखंड जगुआर के बम निरोधक दस्ते द्वारा पूरे प्लेन में एंटी सबोटाज चेक किया गया. इस मॉक ड्रिल में एएआई, एयरलाइंस, मेडिकल फायर सर्विस के साथ विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों ने भाग लिया.

Posted By: Prabhat Gopal Jha

inext-banner
inext-banner