GORAKHPUR:

लोकसभा उपचुनाव का मतदान सकुशल सम्पन्न कराने के लिए प्रशासन दिन रात एक कर पूरी मुस्तैदी के साथ उसकी तैयारियों को पूरा कर चुका है. आज मतदान होना है. लेकिन सहजनवा विधान सभा क्षेत्र के एक गांव की गलियों की दीवारों पर सावर्जनिक स्थलों पर शनिवार को एक पोस्टर चस्पा किया हुआ मिला जिस पर स्थानीय ग्रामीणों द्वारा मतदान का बहिष्कार करने की बात लिखी हुई थी. जिसकी जानकारी जैसे ही प्रशासन को हुई विभाग में हडकंम्प मच गया. तत्काल ही प्रशासन के कई अधिकारी मौके पर पहुंच कर हकीकत जानने की जुगत में लग गए.

सूचना पाते ही एसडीएम हुए रवाना

सहजनवा विधान सभा क्षेत्र के पिपरौली ब्लाक में स्थित ग्राम सभा नगवा के ग्रामीण शनिवार को सुबह जैसे सो कर उठे गांव के अनेक दीवारों और सार्वजनिक स्थल पर पोस्टर चस्पा दिखा जिस पर लिखा हुआ था. चुनाव बहिष्कार रोड नही तो वोट नहीं. जिसे देख ग्रामीण सकते में आ गए और यह कौतुहल का विषय बन गया. इसी दौरान किसी ग्रामीण ने चस्पा किये गए पोस्टर की जानकारी स्थानीय प्रशासन को दी सूचना मिलते ही प्रशासन में हडकंप मच गया तत्काल उपजिलाधिकारी सहजनवा पंकज श्रीवास्तव ने अपने मातहतो को हकीकत जानने के लिए नगवा गांव भेजा. ग्रामीणों ने किसी भी तरह के चुनाव बहिष्कार की बात से इंकार किया. ग्रामीणों का कहना था कि कुछ शरारती तत्वों का कार्य है. ग्रामीण लोकसभा उपचुनाव में मतदान करेंगे जबकि पोस्टर में लिखा है कि गांव की सड़के पूरी तरह जर्जर हो चुकी है. जिससे जगह - जगह जल जमाव की स्थित बनी हुई है. जिसको लेकर ग्रामीण चुनाव का बहिष्कार करेंगे. ग्रामीणों द्वारा चुनाव बहिष्कार से इंकार करने पर पहुंचे प्रशासन के लोगों ने राहत की सांस ली और ग्राम प्रधान ज्ञानेंद्र से बात कर उनके सहयोग से गांव में लगे पोस्टरों को हटवा दिया. प्रशासन ने इस मामले की जांच कर उन शरारती तत्वों के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वासन दिया

वर्जन..

चुनाव बहिष्कार करने की सूचना मिलते ही मातहतो को भेजा, लेकिन ग्रामीण ने ऐसी किसी भी बात से इंकार किया. किसी शरारती तत्व द्वारा ऐसा किया गया. जिसकी जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी.

पंकज श्रीवास्तव, एसडीएम सहजनवां