इस वर्ष अक्षय तृतीया 07 मई 2019, मंगलवार को मनायी जाएगी। तृतीया तिथि मध्यरात्रोपरान्त 02ः16 बजे तक रहेगी। किसी भी देश या समाज का व्यक्ति सदैव धनवान बनना चाहता है, इस अबूझ मुहुर्त पर अपनी राशि के अनुसार अगर आप नीचे दिए गए कुछ उपाय करेंगे तो निश्नित ही आपको धन—वैभव के साथ उन्नति मिलेगी। 

ज्योतिषाचार्य पं. राजीव शर्मा से जानते हैं उन उपायों के बारे में, जिनसे आपकी उन्नति के द्वार खुल जाएंगे।  

1. मेष राशि/लग्नः- यह जातक लाल कपड़े में सवा किलो लाल मसूर की दाल बांधकर घर का प्रतिष्ठान अथवा कार्य स्थल में रखे उन्नति होगी।

2. वृषभ राशि/लग्नः- यह जातक गंगा जल को मटके में भरकर सफेद कपड़े से ढककर अथवा घड़े का मुँह बांधकर अपने निवास अथवा कार्य स्थल पर रखे।

3. मिथुन राशि/लग्नः- यह जातक एक कांसे का बर्तन हरे कपड़े में बांधकर घर अथवा प्रतिष्ठान में पूर्व दिशा की ओर रखे।

4. कर्क राशि/लग्नः- यह जातक किसी शुद्ध बर्तन में गंगा जल भरकर उसमें चांदी का एक सिक्का डालकर पूर्व दिशा में रखे।

5. सिंह राशि/लग्नः- यह जातक एक कटोरी सेंधा नमक भरकर घर अथवा प्रतिष्ठान अथवा कार्यस्थल पर पूर्व दिशा में रखे।

6. कन्या राशि/लग्नः- यह जातक पानी से भरी एक कटोरी में कपूर डालकर प्रतिष्ठान में पूर्व दिशा में रखे।

7. तुला राशि/लग्नः- यह जातक कोई भी सफेद रंग की मूर्ति घर अथवा व्यापार स्थल में रखे, उन्नति होगी।

8. वृश्चिक राशि/लग्नः- यह जातक एक छोटी शीशी में शहद भरकर लाल कपड़े में लपेटकर घर अथवा प्रतिष्ठान में दक्षिण की ओर रखे।

9. धनु राशि/ लग्नः- यह जातक पीले कपड़े में कोई भी धार्मिक पुस्तक लपेटकर निवास, प्रतिष्ठान अथवा फैक्ट्री के पूर्व में रखे।

10. मकर राशि/लग्नः- यह जातक किसी बर्तन में नारियल के तेल में काले तिल डालकर एवं एक नारियल पर काला धागा बांधकर दोनों वस्तुएं घर अथवा प्रतिष्ठान के पूर्वी कोने में रखे।

अक्षय तृतीया 2019: व्रत से जुड़ी हुई हैं ये दो कथाएं, इस दिन होती है भगवान विष्णु की पूजा 

अक्षय तृतीया 2019: इस दिन मांगलिक कार्यों के लिए नहीं देखना पड़ता है मुहूर्त, जानें इसका कारण और महत्व

11. कुंभ राशि/लग्नः- यह जातक नारियल के दो सूखे गोलों को ऊपर से काटकर अनाज भरकर उस पर मौली लपेटकर किसी गरीब को दान कर दे या मन्दिर में रखे, दूसरा गोला निवास अथवा प्रतिष्ठान में रखे।

12. मीन राशि/लग्नः- यह जातक सवा मीटर पीला कपड़ा लेकर उसमें 21 पीले सिक्के बांधकर निवास, प्रतिष्ठान अथवा कार्यस्थल के ईशान कोण में रखे।