-23 साल बाद होगा इविवि में दीक्षांत समारोह का आयोजन

-नोबेल विजेता कैलाश सत्यार्थी होंगे समारोह के चीफ गेस्ट

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: नोबेल विजेता कैलाश सत्यार्थी इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में आयोजित होने वाले दीक्षांत समारोह के मुख्य आकर्षण होंगे. जीहां, सेंट्रल यूनिवर्सिटी बनने के बाद पहली बार होने वाले समारोह में उन्हें बतौर चीफ गेस्ट इन्वाइट किया गया है. उन्होंने विवि प्रशासन के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है. समारोह में कैलाश सत्यार्थी विवि के मेधावियों को मेडल प्रदान करेंगे.

23 साल बाद होगा दीक्षांत समारोह

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में 23 साल के बाद दीक्षांत समारोह आयोजित हो रहा है. 1996 में आयोजित समारोह में मिसाइल मैन और पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम, पूर्व चुनाव आयुक्त टीएन शेष न व मुलायम सिंह यादव शामिल हुए थे. हालांकि तब यूनिवर्सिटी राज्य सरकार के अधीन थी. 2005 में केन्द्रीय दर्जा मिलने के बाद कई बार दीक्षांत समारोह को लेकर योजना बनी लेकिन वह मूर्त रूप नहीं ले सकी.

महत्वपूर्ण तथ्य

-वीसी प्रो. आरएल हांगलू की पहल पर सेंट्रल यूनिवर्सिटी का पहला दीक्षांत समारोह शिक्षक दिवस यानी पांच सितम्बर को कराने का निर्णय लिया गया है. यह केन्द्रीय विवि के इतिहास में स्टूडेंट्स के लिए मील का पत्थर साबित होगा.

-दीक्षांत समारोह आयोजित कराने के लिए वीसी प्रो. आरएल हांगलू के निर्देश पर परीक्षा नियंत्रक प्रो. रामेन्द्र प्रताप सिंह की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय शिक्षकों की संचालन कमेटी का गठन किया गया है.

-संचालन कमेटी की अगुवाई में पांच छोटी-छोटी कमेटियां बनाई गई हैं.

-इनके ऊपर समारोह खानपान, स्टूडेंट्स और शिक्षकों की ड्रेस कोड कौन सा हो, कितने गेस्टों को बुलाया जाएगा उन गेस्टों की लिस्ट व उनके रहने की व्यवस्था करना जैसी जिम्मेदारियां सौंपी गई हैं.

-संचालन कमेटी की महत्वपूर्ण बैठक पच्चीस जुलाई को बुलाई गई है.

-इसमें विवि के किस शैक्षिक सत्र से लेकर किस शैक्षिक सत्र तक के मेधावियों को गोल्ड मेडल दिया जाएगा, कितने स्टूडेंट्स को डिग्री प्रदान की जाएगी, इस पर अंतिम मुहर लगेगी.

--------

यूनिवर्सिटी में पांच सितम्बर को दीक्षांत समारोह कराने का निर्णय लिया गया है. समारोह की तैयारियां जोरों पर की जा रही है. चीफ गेस्ट के रूप में नोबेल विजेता कैलाश सत्यार्थी ने आने की स्वीकृति प्रदान कर दी है. संचालन कमेटी की जल्द ही होने वाली बैठक में मेडल व डिग्री को लेकर अंतिम निर्णय लिया जाएगा.

-डॉ. चितरंजन कुमार, पीआरओ इविवि