-एसएसएल हॉस्टल के बाद शताब्दी ब्वॉयज हॉस्टल के भी स्टूडेंट्स गए घर

एक दिन का अवकाश मनाने के लिए पांच दिन पहले छोड़ दिया हॉस्टल

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: एसएसएल हॉस्टल में रैगिंग ने दामन दागदार बनाया तो शताब्दी ब्वॉयज हॉस्टल से आ रही इंफॉर्मेशन ने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी प्रशासन को कटघरे में खड़ा कर दिया है. शताब्दी ब्वॉयज में 'इंट्रो' की शिकायत किसी स्तर पर नहीं की गयी है लेकिन एक दिन का त्योहार मनाने के लिए फ्रेशर्स का पांच दिन पहले हॉस्टल छोड़कर चले जाना अपने आप में सवाल खड़े करता है. फिलहाल इलाहाबाद यूनिवर्सिटी एडमिनिस्ट्रेशन इस प्रकरण को रैगिंग की श्रेणी में मानने को तैयार नहीं है. उसका कहना है कि इस तरह की कोई कम्प्लेंट नहीं आयी है.

सभी लॉ फाइव इयर के स्टूडेंट

एसएसएल हॉस्टल में इस साल प्रवेश लेने वाले बीए प्रथम वर्ष के स्टूडेंट्स के साथ सीनियर्स ने यहां नौ अगस्त की देर रात रैगिंग की थी. रैगिंग का दूसरा मामला शताब्दी ब्वॉयज हॉस्टल में सामने आया है. घर जाने वाले सभी स्टूडेंट्स पांच वर्षीय इंटीग्रेटेड कोर्स बीए एलएलबी के हैं. इन सभी में इंट्रो का ऐसा खौफ दिखाई दिया कि एक या दो नहीं बल्कि एक दर्जन स्टूडेंट्स हॉस्टल के रजिस्टर में एंट्री कर घर चले गए.

पांच दिनों से हो रही वापसी

यह हॉस्टल बीएएलएलबी कोर्स के स्टूडेंट्स को एलॉट किया गया है. हॉस्टल में सुबह की मीटिंग के रजिस्टर इंचार्ज पुष्पराज से रैगिंग को लेकर पूछताछ की गई. इसमें उसने बताया कि यहां पर कई दिनों से सीनियर्स द्वारा बीए एलएलबी प्रथम वर्ष स्टूडेंट्स का इंट्रो लिया जा रहा था. सूत्रों की मानें तो इंट्रो के नाम पर नवप्रवेशियों से बदतमीजी की जाती थी. इसकी वजह से पांच दिनों से स्टूडेंट्स अपने घर जा रहे हैं. हॉस्टल से जुड़े कर्मचारियों की मानें तो जूनियर डर की वजह से अपना मुंह नहीं खोल पा रहे हैं. शाम होते ही रूम से लेकर परिसर तक में इंट्रो किया जाता है.

कार्यालय इंचार्ज को दिया पत्र

हॉस्टल के कार्यालय इंचार्ज छोटेलाल यादव के मुताबिक कभी-कभी इंट्रो करने की जानकारी मिलती थी. लेकिन रैगिंग की शिकायत कभी किसी स्टूडेंट ने नहीं की. रक्षाबंधन पर बीएएलएलबी प्रथम वर्ष के 15 स्टूडेंट्स अपने घर गए हैं. जाने से पहले सभी ने एक पत्र हॉस्टल के अधीक्षक और दूसरा पत्र कार्यालय में जमा किया है. यहां सवाल यही उठता है कि अगर रैगिंग जैसी घटनाएं नहीं हो रही हैं तो पांच-छह दिन पहले ही स्टूडेंट्स क्यों अपने घर को जाने लगे?

छह स्टूडेंट्स के आई कार्ड जब्त

शताब्दी ब्वॉयज हॉस्टल में सीनियर्स द्वारा रैगिंग की शिकायत मिलने के बाद बारह अगस्त की देर रात चीफ प्रॉक्टर प्रो. राम सेवक दुबे, सुरक्षा अधिकारी अजय सिंह ने अधीक्षक डॉ. प्रदीप कुमार को साथ लेकर हॉस्टल में छापा मारा था. संदिग्ध अवस्था में पाए जाने पर हॉस्टल के छह स्टूडेंट्स का आई कार्ड जब्त कर लिया गया था.

इस हॉस्टल में रैगिंग जैसा कोई प्रकरण सामने नहीं आया है. हम लोग अपने स्तर से इसकी लगातार मॉनीटरिंग करते रहते हैं. जो भी स्टूडेंट्स अपने घर गए हैं उन्होंने रक्षाबंधन पर्व पर छुट्टी ली है.

-डॉ. प्रदीप कुमार,

अधीक्षक शताब्दी ब्वॉयज हॉस्टल