- डीसी, एसएसपी समेत पूरा जिला प्रशासन दिनभर सड़क पर

- राजधानी में किसी तरह की अप्रिय घटना नहीं, सौहार्द की मिशाल पेश किया लोगों ने

- हुड़दंगियों और उत्पातियों पर पुलिस का कसा रहा शिकंजा

- शहर के सारे डीएसपी और थानेदार 72 घंटे नहीं करेंगे आराम

शनिवार की सुबह राजधानी पूरी तरह से निगेहबानों की छावनी में तब्दील हो गयी. चप्पे-चप्पे पर पुलिस फोर्स तैनात रही. शहर के सारे डीएसपी और थानेदारों को 72 घंटे तक आराम नहीं करने के निर्देश जारी कर दिए गए. डीसी राय महिमापत रे और रांची एसएसपी अनीश गुप्ता सुबह 10 बजे से ही सड़क पर नजर आए. शहर में पूरी तरह सुरक्षा व्यवस्था टाइट कर दी गयी. हालांकि, देर रात तक राजधानी के किसी इलाके से कोई अप्रिय घटना की जानकारी नहीं आयी. विदित हो कि देश के सबसे विवादित और संवेदनशील मामले पर शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला आया. फैसला आने के बाद तनाव बढ़ने की आशंका को देखते हुए रांची जिले में निषेधाज्ञा (धारा 144) लगा दी गयी. जिला दंडाधिकारी सह डीसी ने इस बाबत आदेश जारी कर दिया. इसके साथ ही सोशल मीडिया पर आदेश की कॉपी शेयर की जाने लगी, जिससे लोगों को इस बात की जानकारी मिल गई.

लगी पाबंदी, रहे सतर्क

प्रशासन ने 11 नवंबर तक निषेधाज्ञा लगाने की घोषणा की है. इस दौरान किसी भी संगठन, दल या उनके समर्थकों के द्वारा किसी भी तरह की सभा, जूलूस, जश्न मनाने पर पाबंदी रहेगी. कोई भी व्यक्ति बिना आदेश के लाउड स्पीकर का इस्तेमाल नहीं करेगा. लोगों को सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं. साथ ही किसी भी तरह के संवेदनशील मामले की जानकारी तुरंत जिला प्रशासन को उपलब्ध कराने को कहा गया है.

शुक्रवार रात से ही पुलिस बल तैनात

रांची एसएसपी अनीश गुप्ता ने सड़क पर निकलकर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया. फैसले को देखते हुए शुक्रवार की रात से ही जिले के संवेदनशील इलाकों में पुलिस बल तैनात कर दिए गये थे. मेन रोड स्थित एकरा मस्जिद, हनुमान मंदिर, अल्बर्ट एक्का चौक, हरमू रोड हरमू चौक, कडरू सहित कई जगहों पर पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात किये गये.

रिजर्व पुलिस बल भी अलर्ट पर

पुलिस लाइन में भी बड़ी संख्या में पुलिस वालों को तैयार रखा गया है. पुलिस अधिकारी अपने-अपने थाना क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते नजर आए. एसएसपी अनीश गुप्ता ने सभी थानेदारों को भी विशेष अलर्ट करते हुए हर इलाकों में गश्ती बढ़ाने का निर्देश दिया. इसके बाद से ही पुलिस संवेदनशील हर गली मोहल्लों में पेट्रोलिंग करती रही. सभी धार्मिक स्थलों के आसपास विशेष निगरानी रखी गई.

--

Posted By: Inextlive