अयोध्या (एएनआई)। दीवाली की पूर्व संध्या पर अयोध्या जगमगाने को तैयार है। अयोध्या में सरयू नदी के तट को एक बार फिर से रोशन किया जाएगा। अधिकारी भव्य 'दीपोत्सव' तैयारी शुरू कर चुके हैं। इस संबंध में अयोध्या विधान सभा के सदस्य और भारतीय जनता पार्टी के नेता वेद प्रकाश गुप्ता का कहना है कि इस पहल से जिले में पर्यटन को बढ़ावा देने का एक अच्छा अवसर है।

अयोध्या में पर्यटन को बढ़ावा देने की अनोखी पहल

वेद प्रकाश ने यह भी बताया कि सरकार द्वारा इस समय तैयारियों के लिए 130 करोड़ रुपये से अधिक की राशि आवंटित की गई है। दीपोत्सव के पीछे का दृष्टिकोण केवल आध्यात्मिक नहीं है, बल्कि क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देना है। हर हफ्ते काम की प्रगति पर नजर रखी जा रही है। इसके पूरा होने की समय सीमा 30 सितंबर है। हमें भरोसा है कि ये काम समय पूरे हो जाएंगे।

सीएम योगी आदित्यनाथ की सरकार की प्रशंसा की

तपस्वी चवन्नी मंदिर के मुख्य पुजारी स्वामी परमहंस दास जी महाराज ने सीएम योगी आदित्यनाथ की सरकार की प्रशंसा की। उन्होंने कहा योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में अयोध्या की खोई हुई महिमा को पुन: स्थापित किया जा रहा है। खास बात तो यह है कि दीपोत्सव के माध्यम से अयोध्या को दुनिया भर में पहचान मिल रही हैै। इससे न केवल पर्यटन बल्कि जिले में विकास को बढ़ावा मिला है।

अयोध्या में दिखी अतिथि देवो भव की परंपरा, हेलीकॉप्टर से आए राम लक्ष्मण और सीता

2018 में यहां दीपोत्सव भव्य तरीके से मनाया गया

बता दें कि बीते साल 2018 में अयोध्या में दीपोत्सव भव्य तरीके से मनाया गया। दिवाली के त्योहार से एक दिन पहले सरयू नदी के तट पर तीन लाख से अधिक मिट्टी के दीपक जलाए गए थे। यह दीपोत्सव गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ। वहीं इस वर्ष 26 अक्टूबर को अयोध्या में दीपोत्सव मनाया जाएगा। इसके यहां तैयारियां युद्धस्तर पर की जा रही हैं।

Posted By: Shweta Mishra

National News inextlive from India News Desk

inext-banner
inext-banner