- एलयू के सभी गेटों पर जड़ा गया ताला

- स्कूल बंद होने की जानकारी न होने कारण स्कूल से वापस लौटे स्टूडेंट्स

LUCKNOW : राम जन्मभूमि विवाद को लेकर आए फैसले पर राजधानी के सभी शिक्षण संस्थाओं में छुट्टी की घोषणा सरकार ने की थी। इसका असर शिक्षण संस्थाओं में देखने को मिला। एलयू प्रशासन ने आदेश का सख्ती से पालन करते हुए दोनों कैंपस में लगे छोटे बड़े गेटों को पूरी तरह से बंद कर दिया। हालांकि यूनिवर्सिटी ने कुछ एक डिपार्टमेंट में पहले से चल रहे वर्कशॉप की वजह से गेट नंबर पांच खोल रखा था, जहां से स्टूडेंट्स ने एंट्री की।

एलयू ने सभी गेट पर पड़ा ताला

राम मंदिर के फैसले को देखते हुए एलूय ने विशेष तैयारी कर रखी थी। एलयू ने कैंपस में किसी भी तरह की एंट्री को बैन कर रखा था। साथ ही सभी हॉस्टलों में छात्रों को किसी भी तरह की नारेबाजी और पटाखे जलाने पर प्रतिबंध लगा दिया था। वहीं सभी प्रॉवोस्ट को अपने अपने हॉस्टल में विशेष तौर पर निगरानी रखने का आदेश दिया।

स्कूल से वापस लौटे स्टूडेंट्स

रात में घोषित छुट्टी की जानकारी कई स्कूलों द्वारा समय पर बच्चों को नहीं दी गई, जिस कारण से शनिवार को सीतापुर रोड स्थित कुछ बच्चों को स्कूल पहुंचने के बाद स्कूल बंद होने की सूचना मिली। स्कूल में तैनात सिक्योरिटी गार्ड ने 12 नवंबर तक बंद होने की सूचना दी। स्कूल बंद होने की सूचना मिलने के बाद बच्चे वापस घर लौटे।

सभी शिक्षण संस्थाओं ने रद्द किए अपने कार्यक्रम

सरकार द्वारा छुट्टी की घोषणा के बाद सभी स्कूल और शिक्षण संस्थाओं ने अपने सभी कार्यक्रम रद्द कर दिये। कई स्कूल में हाफ ईयरली एग्जाम चल रहे हैं, जिसे स्कूलों ने आगे बढ़ा दिया। सीबीएसई बोर्ड के कोऑर्डिनेटर डॉ। जावेद आलम खान ने बताया कि कई स्कूलों में हाफ ईयरली एग्जाम को आगे बढ़ा दिया है। इन एग्जाम की डेट स्कूलों की ओर से आगे जारी की जाएगी। वहीं कई स्कूलों में इंटर कॉलेज फेस्ट को भी रोक दिया गया है।

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner