कानपुर। Bada Mangal 2020: बड़ा मंगल या बड़ा मंगलवार भगवान हनुमान की पूजा करने का दिन है। यह लखनऊ में एक अनूठा त्योहार है क्योंकि देश के अन्य हिस्सों की अपेक्षा यहां हनुमान भक्‍तों के बीच इस उत्‍सव की अधिक धूम होती है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन भगवान हनुमान की पूजा करने से हमारे जीवन से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है और धन और समृद्धि आती है। यह त्योहार लखनऊ के गंगा-जमुनी तहज़ीब का प्रतीक है और कहा जाता है कि लगभग 400 साल पहले मुगल शासन के दौरान इसकी उत्पत्ति हुई थी। बड़ा मंगल हर साल ज्येष्ठ के महीने के दौरान मनाया जाता है, जो आमतौर पर ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार मई और जून के महीने में आता है। अलीगंज में हनुमान मंदिर सभी भक्तों के लिए केंद्र बिंदु है। ऐसा इसलिए है क्योंकि कहा जाता है कि यह अनुष्ठान वहां शुरू हुआ था।

इतिहास और महत्व

'बड़ा मंगल' के पीछे एक दिलचस्प कहानी है। इतिहासकारों के अनुसार, अलीगंज में हनुमान मंदिर का निर्माण नवाब सआदत अली खान ने 1798 में करवाया था, जब उनकी मां आलिया बेगम की मन्‍नत पूरी हुई और नवाब को पुत्र रत्‍न की प्राप्ति हुई थी। आलिया बेगम ने मंदिर बनाने पर जोर दिया और नवाब ने अनुपालन किया। अवध के आखिरी नवाब वाजिद अली शाह ने हनुमान भक्तों के लिए सामुदायिक भोज आयोजित करके परंपरा को जारी रखा। अलीगंज मंदिर में गुंबद पर एक सितारा और एक अर्धचंद्र है और 'बड़ा मंगल' उत्सव हिंदू-मुस्लिम एकता का एक आदर्श उदाहरण है। लखनऊ में 9,000 से अधिक बड़े और छोटे हनुमान मंदिर हैं, जो आधी रात को अपने दरवाजे खोलते हैं और भक्त पूरे दिन पूजा अर्चना करते रहते हैं।

समारोह

लंबी कतार और गर्मी से बचने के लिए लोग तड़के और देर शाम बड़ी संख्या में मंदिरों में पहुंचते हैं। भक्तों में सभी को प्रसाद और जल वितरित करने के लिए शहर भर में बड़े भंडारे लगाए जाते हैं। हलवा-पूड़ी, अलू-कचौरी, चोल-चवाल, कढ़ी चवल से लेकर जूस तक- भंडारे सभी को स्वादिष्ट प्रसाद देते हैं। कुल मिलाकर, ज्येष्ठ के महीने में 4-5 बड़ा मंगल आते हैं। यद्यपि आप कोरोनोवायरस लॉकडाउन के कारण पहले मंगलवार को मंदिरों में पहुंचने में असमर्थ हो सकते हैं, फिर भी आप अपने घर से भगवान हनुमान की पूजा कर सकते हैं।

Posted By: Inextlive Desk

Spiritual News inextlive from Spiritual News Desk