- रोजाना एक किमी घूम कर आने के लिए पब्लिक मजबूर

- कई स्पॉट पर बैरिकेडिंग लगाकर बंद किया है रास्ता

- जबकि सुबह 7 से शाम 7 बजे तक आम लोगों को परमिशन

GORAKHPUR: गोरखपुर में लॉकडाउन चल रहा है। चौथे फेज में लोगों को काफी राहत मिली है और उन्हें घर से जरूरी सामानों के लिए बाहर निकलने का मौका भी मिला है। लॉकडाउन में रियायत मिलने के बाद सिटी के कुछ स्पॉट्स पर लोगों को राहत मिल गई, लेकिन अब भी कई ऐसे स्पॉट्स हैं, जहां डर किसी बात का नहीं है, लेकिन सिर्फ अपने काम का दबाव करने के लिए जिम्मेदारों ने पूरी तरह से रास्ता बंद कर रखा है। इससे जहां आम लोगों को दूसरी ओर जाने में परेशानी हो रही है, वहीं इसकी वजह से उनका रास्ता काफी लंबा हो जा रहा है।

गोलघर में तो कई स्पॉट

लॉकडाउन के दौरान जब काफी सख्ती बरती जा रही थी, तो कुछ रास्तों को पूरी तरह से बंद कर दिया गया, ताकि वहां से लोगों की आवाजाही न हो सके। यहां कुछ जिम्मेदारों की ड्यूटी भी लगाई गई, जिससे कोई इन रास्तों को खोलकर निकलने की कोशिश न करे, लेकिन अब जब काफी रियायतें मिलने लगी है, इसके बाद भी उन स्पॉट्स को पूरी तरह से बंद रखा गया है। सिर्फ गोलघर से बेतियाहाता तक की बात कर लें, तो यहां करीब 5 ऐसे स्पॉट्स हैं, जहां लोग अल्टरनेट रास्ते से आवाजाही कर रहे हैं, लेकिन मेन रूट्स को अब भी बंद रखा गया है।

सिर्फ गोलघर से बेतियाहाता के बीच यहां है बैरिकेडिंग -

कचहरी चौराहा - इस रास्ते से यूनिवर्सिटी, हरिओमनगर, आरटीओ ऑफिस के साथ ही रेलवे जाने के लिए लोग इस्तेमाल करते हैं। इन सब जगहों पर जाने के लिए लोगों को एक किलोमीटर का सफर एक्स्ट्रा तय करना पड़ रहा है।

इंदिरा बाल विहार- इस रास्ते को अल्टरनेट के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है, यहां से लोग हरिओमनगर और सिविल लाइंस के साथ ही सिनेमा रोड और सिटी मॉल की ओर जाते हैं। यहां से भी लोगों को काफी घूम कर जाना पड़ रहा है।

शास्त्री चौक- शास्त्री चौक से दीवानी कचहरी का रास्ता जाता है इस ओर से काफी तादाद में वकील वहां पहुंचते हैं। इसके अलावा विकास भवन और कमिश्नर ऑफिस जाने के लिए भी इस रास्ते का इस्तेमाल होता है। कचहरी के लिए भी जजेज कंपाउंड की ओर से करीब 500 मीटर से ज्यादा घूमकर जाना पड़ रहा है।

फिराक गोरखपुरी चौराहा - यहां काफी हॉस्पिटल, डायग्नोस्टिक सेंटर और मेडिकल स्टोर होने के साथ ही कचहरी और पैडलेगंज से आने-जाने का रास्ता है। मगर रास्ता बंद होने की वजह से या तो लोगों को गाड़ी खड़ी कर इस पार आना पड़ रहा है, या फिर गाड़ी घुमाकर यहां पहुंचना पड़ रहा है।

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner