क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : शहर को साफ रखने की जिम्मेवारी रांची नगर निगम की है. लेकिन कुछ दिनों से सफाई व्यवस्था बेपटरी हो गई है. शहर में निगम कचरे का उठान नहीं करा पा रहा है. उसके बेहतर सफाई के सारे दावे फेल हो चुके हैं. ऐसे में शहर के बीचों-बीच डेली मार्केट में ही कूड़े का पहाड़ बनता जा रहा है. इससे डेंगू-मलेरिया फैलने का खतरा बढ़ गया है. कचरे का उठाव न होने से महामारी फैलने का डर भी लोगों को सता रहा है. वहीं बारिश ने लोगों की परेशानी और बढ़ा दी है. बरसात होते ही वाटर लॉगिंग और कीचड़ से सामना करना पड़ रहा है. इसके बावजूद सिटी में दवा का छिड़काव नहीं कराया जा रहा है.

नहीं लगा डस्टबिन

सिटी के अलावा मार्केट से भी काफी कचरा निकलता है. लेकिन नगर निगम के सामने मार्केट से निकलने वाले कचरे को डंप करने को लेकर एक बड़ी समस्या है. निगम ने मार्केट में भी बड़े डस्टबिन लगाने की योजना बनाई थी. लेकिन यह योजना भी ठंडे बस्ते में चली गई. इस चक्कर में शहर के बीच में बने मार्केट में एक बार फिर 100 टन से अधिक कूड़े का पहाड़ खड़ा हो गया है.

दुर्गध से सांस लेना मुश्किल

मार्केट में कूड़े का ढेर जमा होने से यहां दुकानें लगाने वालों के साथ ही आसपास में रहने वाले बाशिंदे भी दुर्गध से परेशान हैं. बारिश के दौरान तो कचरे से उठ रही बदबू से लोगों का सांस लेना मुश्किल हो रहा है. वहीं इससे वातावरण भी प्रदूषित हो रहा है. एक्सप‌र्ट्स की मानें तो ज्यादा दिनों तक ऐसे माहौल में रहने से सांस की बीमारी हो सकती है.

दुकानों पर नहीं आ रहे कस्टमर

सफाई करने वाले स्टाफ की लापरवाही का खामियाजा डेली मार्केट के दुकानदार भी भुगत रहे हैं. गंदगी और दुर्गध के कारण कस्टमर भी उनके यहां आने से बच रहे हैं. वहां कूड़े का पहाड़ देख जानवरों का भी जमावड़ा लगा रहता है. जो कभी भी कस्टमर्स और दुकानदारों को अपना निशाना बना सकते हैं. इस वजह से भी लोग मार्केट में अंदर जाने से डर रहे हैं.