भदोही के चौरी के रोटहां गांव स्थित कालीन कारखाना में चल रहा था अवैध पटाखा का धंधा

- प्रभारी निरीक्षक सहित दो पुलिस कर्मियों को किया गया निलंबित

वाराणसी-भदोही मार्ग पर स्थित रोटहां गांव में शनिवार को एक कालीन कारखाना में विस्फोट से 13 जिंदगियां दफन हो गई. जबकि तीन अन्य अभी भी जीवन-मौत के बीच झूल रहे है. मृतकों में कालीन कारखाना के मालिक और उसका भाई शामिल है. धमाका इतना तीव्र था कि पूरी बि¨ल्डग के साथ ही साथ आस-पास की दीवारें उड़ गई. साथ ही घटना स्थल से पांच सौ मीटर दूर क्षत- विक्षत शव बिखर गया चारों ओर अफरा-तफरी की स्थिति उत्पन्न हो गई. मौके पर पहुंची पुलिस टीम बचाव कार्य में जुट गई. इस मामले में प्रभारी निरीक्षक अजय सिंह और चौकी प्रभारी प्रमोद पांडेय को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया और उच्चस्तरीय जांच के लिए टीम गठित कर दी गई.

उड़ गयी पूरी बिल्डिंग

चौरी थानाक्षेत्र के रोटहां गांव निवासी कलियर मंसूर भदोही-वाराणसी मार्ग पर ही अपने निजी भवन में दुकान रखकर कई वर्षों से अवैध पटाखा का कारोबार करता था. उसका लड़का इरफान इसी भवन के पीछे कालीन कारखाना चलाता था. शनिवार को कालीन मजदूर भोजन की तैयारी में जुटे ही थे कि अचानक तेज धमाका के साथ विस्फोट हो गया. धमाका होते ही पूरी बि¨ल्डग उड़ गई और दुकान पर बैठे कारखाना मालिक इरफान (32) और उसका भाई आबिद (20) पुत्र कलियर मंसूरी के अलावा पश्चिम बंगाल के मालदा जनपद के मानिकचक थाना क्षेत्र के इनायतपुर निवासी आलम (30) पुत्र कलीमुद्दीन, आजाद (40), पुत्र सदरूल, कादिर (28) पुत्र सदरू, अताउर(23) पुत्र कुद्दुस, मुसौउर (32), गफ्फार (26) पुत्र मर्जाद, कलाम (20) पुत्र राशिद, इसराफिल (24) पुत्र हाकिम, भदोही के अर्जुनपुर गांव निवासी सलीम (42), शनि (32), सुबहान (24) की मौत हो गई जबकि शहशांह, नवाज और फातमा गंभीर रूप से झुलस गई.

सात घंटे बाद हटा मलवा

घटना की जानकारी होते ही मौके पर डीएम राजेंद्र प्रसाद और एसपी राजेश एस के अलावा अपर पुलिस महानिदेशक पीवीरामा शास्त्री मौके पर पहुंच गए. बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ टीम बुला ली गई. करीब सात घंटे तक कड़ी मशक्कत के बाद मलवा हो हटाया गया. इस बीच भदोही-वाराणसी मार्ग को बंद कर दिया गया था. पुलिस अधीक्षक राजेश एस ने बताया कि कालीन कारखाना के आड़ में अवैध पटाखा का कारोबार किया जा रहा था. इस मामले ग्यारह की मौत की पुष्टि हो चुकी है जबकि अन्य की पहचान की जा रही है. प्रभारी निरीक्षक और चौकी प्रभारी निरीक्षक को निलंबित किया जा चुका है.