लखनऊ (ब्यूरो)। एसएसपी एसटीएफ राजीव नारायण मिश्र ने बताया कि इंटेलिजेंस इनपुट मिला था कि अवैध शराब की खेप हरियाणा से ट्रक पर लोड कर बिहार ले जाई जाएगी। यह ट्रक सीतापुर के महोली स्थित एक ढाबे पर रुकेगा। इनपुट पर एएसपी विशाल विक्रम सिंह ने एसआई शिवनेत्र सिंह और उनकी टीम को कार्रवाई के निर्देश दिये। जिसके बाद टीम ने सीतापुर के महोली इलाके में ढाबे पर पहुंचे ट्रक की तलाशी ली। तलाशी के दौरान ट्रक पर 270 पेटी अवैध अंग्रेजी शराब बरामद की।

बिहार में होनी थी शराब की आपूर्ति

टीम ने मौके से दो तस्कर शामली निवासी साजिद अली और मेरठ निवासी महेंद्र जाटव को अरेस्ट कर लिया। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वे बरामद शराब बिहार में डिलीवरी देने के लिये जा रहे थे। बिहार में शराबबंदी होने की वजह से यह अवैध शराब ऊंची कीमत पर बिकती है। पूछताछ में जानकारी मिली है कि अवैध शराब की खेप हरियाणा के सोनीपत निवासी इरफान ने भेजी थी। उसकी तलाश शुरू कर दी गई है।

कोयले के नीचे गांजे की तस्करी

एएसपी विशाल विक्रम सिंह ने बताया कि एसटीएफ व नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की संयुक्त टीम ने आजमगढ़ के रानी सरांय इलाके में ओडिशा से आ रहे ट्रक को चेकिंग के लिये रोका। ट्रक पर कोयला लदा हुआ था। शक होने पर जब टीम ने ट्रक से कोयला अनलोड करवाया तो उसके नीचे गांजे का जखीरा देख टीम के होश उड़ गए। ट्रक पर लदे गांजे की तौल कराई गई तो उसका वजन 12 क्विंटल 50 किलो निकला।

ओडिशा से आ रहा था गांजा

टीम ने ट्रक पर सवार प्रतापगढ़ निवासी कलामुद्दीन और मोहम्मद वसीम को अरेस्ट कर लिया। पूछताछ के दौरान दोनों आरोपियों ने बताया कि बरामद गांजा ओडिशा से लेकर आ रहे हैं और इसे आजमगढ़ और आसपास के जिलों में बेचा जाना है। गांजे को गुड्डू सिंह के जरिए कृष्णा सिंह ने मंगवाया है। उसने बताया कि उन्हें हर बार माल डिलीवरी का 50 हजार रुपये मिलता है।

lucknow@inext.co.in

Posted By: Satyendra Kumar Singh

Crime News inextlive from Crime News Desk