फ्लैग- डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल की ब्लड बैंक में बचा है सिर्फ 14 यूनिट ब्लड

-ओ पॉजीटिव और एबी पॉजीटिव ग्रुप का ही बचा ब्लड, बाकी 6 ग्रुपों का ब्लड खत्म

-इमरजेंसी में एडमिट पेशेंट्स को हो सकता है जान का खतरा, डोनर न मिलने से बढ़ी प्रॉब्लम

ब्लड बैंक की यह है स्थिति

मंथ डोनेट डिमांड

जनवरी 280 267

फरवरी 298 281

मार्च 301 268

अप्रैल 279 275

मई 298 269

जून 299 298

जुलाई 308 300

अगस्त 269 244

सितम्बर 157 143

बरेली: शहर के एक मात्र गवर्नमेंट ब्लड बैंक में सिर्फ 14 यूनिट ही ब्लड बचा है. ऐसे में अगर किसी को इमरजेंसी में ब्लड की जरूरत पड़ी तो प्रॉब्लम हो सकती है. क्योंकि डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में बनी ब्लड बैंक में ब्लड की डिमांड तो खूब आ रही है, लेकिन कोई डोनेट करने नहीं आ रहा है. हालांकि ब्लड बैंक इंचार्ज के साथ पूरी टीम ब्लड की कमी पूरा करने के लिए समय-समय पर ब्लड डोनेट कैंप भी लगाती है, लेकिन इसके बाद भी ब्लड बैंक को ब्लड की कमी से जूझना पड़ता है.

तीमारदार खुद नहीं बनते डोनर

डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में एडमिट किसी मरीज को ब्लड की जरूरत पड़ती है तो वह ब्लड बैंक से ब्लड ले सकता है, लेकिन इसके लिए उतना ब्लड तीमारदार को डोनेट करना होता है. लेकिन हॉस्पिटल में एडमिट ज्यादातर मरीज ब्लड डोनेट करने के नाम पर खुद को तीमारदार बताना ही छोड़ देते हैं. अब ऐसे में मरीज की जान बचाने के लिए सीएमएस के आदेश पर बगैर डोनर के ही ब्लड दिया जाता है. हालंाकि इस तरह के हर माह दो से तीन मामले ही पकड़ में आते हैं. ऐसे दो मामले सीएमएस ने भी पकड़े, जिसके बाद उनसे ब्लड डोनेट कराया गया.

ऑनलाइन सर्च करते डोनर

किसी भी मरीज के साथ डोनर नहीं होने पर उसे ब्लड की जरूरत पड़ती है. तो वह ऑनलाइन डोनर को भी सर्च कर सकता है. इसके लिए उसे एनआईसी की वेबसाइट पर जाकर ब्लड डोनर सर्च कर दिए गए मोबाइल नम्बर पर बात कर सकता है. इस तरह कोई भी मरीज ब्लड ले सकता है.

शहर में हैं चार ब्लड बैंक

डिस्ट्रिक्ट में चार ब्लड बैंक हैं जिसमें आईएमए, गंगाचरण ब्लड बैंक, डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल और एसआरएमएस में भी ब्लड बैंक है. इसमें तीन निजी तो डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में ही सरकारी ब्लड बैंक है. डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में एडमिट पेशेंट्स को ही बिना डोनर ब्लड देने की सुविधा उपलब्ध है.

इतना बचा है ब्लड

00-ए वी पॉजिटिव

00-वी पॉजिटिव

13-ओ पॉजिटिव

01-एबी पॉजिटिव

00-ए निगेटिव

00-बी निगेटिव

00-ओ निगेटिव

00-एबी निगेटिव

14 यूनिट ब्लड पूरी ब्लड बैंक में सभी गु्रप का

ब्लड बैंक की तरफ से समय-समय पर ब्लड डोनेट के लिए कैंप लगाया जाता है लेकिन ब्लड की डिमांड इतनी अधिक है कि बगैर डोनर के ही ब्लड देना पड़ता है. इसीलिए ब्लड बैंक में ब्लड की कमी रहती है.

डॉ. यूबी सिंह, ब्लड बैंक इंचार्ज डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल