- इंस्पेक्टर मडि़यांव ने मुंह में पान मसाला और सादी वर्दी चप्पल पहनकर दिलाई थी शपथ

- अनुशासनहीनता के मामले में एसएसपी ने किया सस्पेंड

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW : सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर जहां एसएसपी समेत पुलिस के आला अफसर हाथ में झाडू लेकर सफाई अभियान में जुटे हैं तो वहीं राजधानी के इंस्पेक्टर मडि़यांव ने बगावती बिगुल बजाते हुए कहा कि झाडू पकड़ने के लिए वर्दी नहीं पहनी है. आला अफसरों के निर्देश पर फ्राईडे को स्वच्छता अभियान के दौरान मुंह में पान मसाला और सादी वर्दी में चप्पल पहनकर सहयोगी पुलिस कर्मियों को शपथ दिलाई. इंस्पेक्टर के रवैये और अनुशासन हीनता के मामले में एसएसपी मंजिल सैनी ने उन्हें सस्पेंड कर दिया.

मुंह में गुटखा दबाकर दिलाई थी शपथ

शुक्रवार सुबह मडि़यांव कोतवाली में शपथ दिलाई गई थी. पूरा स्टॉफ शपथ के लिए तैयार था और इंतजार था कोतवाल नागेश मिश्रा का. तभी इंस्पेक्टर नागेश अपने कमरे से सफेद चेकदार टी शर्ट, काली लोअर और हवाई चप्पल पहन कर बाहर आए. कोतवाल साहब के पैरों में हवाई चप्पल थे और मुंह पान मसाले से भरा हुआ था. इसी हालत में उन्होंने स्टॉफ को शपथ दिलवा दी. शपथ ग्रहण की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई.

अधिकारियों को दिया उल्टा जवाब

इंस्पेक्टर की अनुशासनहीनता उच्च अधिकारियों के संज्ञान में आई. इस बाबत पूछे जाने पर इंस्पेक्टर मडि़यांव का कहना था कि झाडू पकड़ने के लिए मैंने वर्दी नहीं पहनी है. इंस्पेक्टर के रवैये और अनुशासनहीनता के मामले को संज्ञान में लेते हुए शनिवार को एसएसपी मंजिल सैनी ने इंस्पेक्टर मडि़यांव नागेश मिश्रा को निलंबित कर दिया.

विवादों से है पुराना नाता

इंस्पेक्टर मडि़यांव शुरू से ही विवादों में घिरे रहे. डॉ. अयूब मामले में उनके ऊपर आरोपी से मिलीभगत का भी आरोप लग चुका है. इस मामले में डीआईजी प्रवीण कुमार ने रेप के मामले की जांच उनसे लेकर सीओ बीकेटी को सौंप दी थी और उनके खिलाफ प्रारम्भिक जांच के आदेश भी दिए थे. पहले भी अपने बेबाक बयान बाजी को लेकर इंस्पेक्टर मडि़यांव विवादों में रहे हैं.