सब्जी लाने से मना करने पर नाम काट बच्चे से वापस मांगी यूनिफॉर्म

BAREILLY:

किला पुल स्थित कटघर का प्राइमरी स्कूल-क् जहां की हेडमास्टर बच्चों में हिटलर मैम के नाम से जानी जाती हैं. बच्चे बाजार से सब्जी लाने नहीं गए तो उन्हें मारा पीटा जाता है. स्कूल ट्वायलेट बच्चे साफ नहीं किये तो भी उनकी पिटाई की जाती है. हिटलर मैम का बच्चों में खौफ इतना है कि दर्जनभर बच्चों ने स्कूल ही जाना छोड़ दिया. बच्चों के लिए हेडमास्टर ही नहीं उनके पति भी टेंशन का सबब बने हुए हैं, जो पूरे दिन स्कूल में बैठकर शराब पीते रहते हैं. फिर नशे में बच्चों से मारपीट भी करते हैं.

प्रताडि़त बच्चों और स्कूल छोड़ चुके बच्चों के अभिभावकों से आई नेक्स्ट ने बात कर जानी पूरी स्थिति ..

अधिकारियों नहीं ले रहे एक्शन

हिटलर टीचर और उसके पति की शिकायत छात्रों के परिजनों ने शिक्षा अधिकारियों व नगर निगम से किया. ये शिकायती पत्र नगर निगम, डीआईओएस, एडी बेसिक, व बीएसए को भेजा गया. लेकिन पिछले महीने की गई. शिकायतों पर किसी विभाग ने कोई एक्शन नहीं लिया.

स्कूल में ही रहता है टीचर का पति

प्राइमरी स्कूल कटघर-क् में क्क्7 बच्चें और ख् लेडी टीचर तैनात है. इस स्कूल के प्रताडि़त छात्रों के अभिभावकों का कहना है कि दो लेडी टीचर में से एक टीचर सोफिया का पति पूरे दिन स्कूल में बैठा शराब पीता रहता है और बच्चों को प्रताडि़त करता है. बच्चे इस हद तक प्रताडि़त हो चुके है कि स्कूल से बारह बच्चों ने स्कूल जाना छोड़ दिया है.

सहमें बच्चों और अभिभावकों ने बतायी टीचरों की कारस्तानी

राना मैडम बर्तन साफ करवाती है. हम काम करने से मना कर दे तो सोफिया मैडम के शौहर हमें डंडे से मारते है. मैडम कहती है कि घर पर शिकायत की तो नाम काट दूंगी.

-कहकशा, कक्षा-भ्

मैडम टायलेट साफ करवाती हैं, लेकिन हमें कभी टायलेट इस्तेमाल नहीं करने देती, घर जाना पड़ता है. स्कूल में साबुन खरीदने के लिए हम सब बच्चों को अपने-अपने घर से दो-दो रुपये लाने होते है, जिससे साबुन खरीदा जाता है.

- सलमान कक्षा भ्

स्कूल की मैडम के शौहर दिन भर स्कूल में ही बैठे रहते है और वही शराब पीकर सबको गालियां भी देते है. मेरे क्लास के पांच बच्चे अब स्कूल नही आते, मैडम और सर से डर लगता है अब मैं भी स्कूल नहीं जाऊंगी.

- सज्जाद, कक्षा-ख्

स्कूल छोड़ चुके बच्चों के अभिभावक ने बताई अपनी लाचारी

बच्चों से स्कूल की सहायक अध्यापिका का शौहर रोज सुबह स्कूल में सफाई करवाता है और एमडीएम के बर्तन भी धुलवाता है. बच्चे अगर काम करने से मना कर दें तो उन्हे बहुत बुरी तरह से मारता है. इलाके के ज्यादातर बच्चे इसी स्कूल में पढ़ने जाते है लेकिन अब सबने मार की डर से स्कूल जाना बंद कर दिया है. मेरा बेटा आसिफ अब स्कूल नही जाता. पिटाई के डर से सहम गया है. इल्म जरूरी है, लेकिन हम गरीब लोग प्राइवेट स्कूल की फीस कैसे भर पायेंगे, टीचर से कुछ कहो तो गालियां मिलती है.

- शब्बू भाई, अभिभावक

मेरी नवासी नजीर मेरे साथ ही रहकर यहां प्राइमरी स्कूल में कक्षा तीन में पढ़ती थी, लेकिन स्कूल की टीचर का शौहर शराब पीकर लड़कियों को पीटता है. इस वजह से बच्ची इतना डर गई है कि अपनी अम्मी के पास जाकर रहने लगी है. बुलाने जाओ तो कहती है सर जी मारेंगे, मैं अब नही पढूंगी.

- इस्लाम बानो, अभिभावक

हेड मास्टर ने मेरे बेटे साहिल से सब्जी मंगाई, जब उसने लाने से मना कर दिया तो हेडमास्टर और सहायक टीचर के पति ने बेटे को बहुत मारा और बच्चे का नाम काट दिया, टीचर का शौहर मेरे घर आकर बच्चे को स्कूल से मिली दोनो ड्रेस जबरदस्ती मांग कर वापस ले गया.

- अत्तरी बेगम,

अधिकारी के डांट भी कर दी अनसुनी

प्राइमरी स्कूल कटघर-क् के टीचरों द्वारा प्रताडि़त छात्रों और इनके अभिभावकों के आरोपों पर जब आई नेक्स्ट ने इन टीचर्स का पक्ष जानना चाहा तो हेड मास्टर ने रिपोर्टर से अभद्रता की. साथ ही नगर खंड शिक्षा अधिकारी नरेश चंद्र पवार ने जब इस टीचर फोन पर बात करनी चाही तो टीचर राना ने अधिकारी से बात करने से साफ इनकार कर दिया.

इस स्कूल की टीचरों के खिलाफ मुझे भी शिकायत मिल चुकी है, शराबी पति के मामले पर गंभीरता से एक्शन लिया जाएगा. मैं आज जाकर खुद स्कूल की स्थिति का निरीक्षण करूंगा. टीचर की अभद्रता की मैं निंदा करता हूं

- नरेश चंद्र पवार, नगर खंड शिक्षा अधिकारी