ऐसा कहते हैं अधिकारी

राकेश गर्ग ने ये भी बताया कि इन दोनों के विलय का फैसला भारतीय प्रबंधन संस्थान (आइआइएम) समिति की रिपोर्ट के आधार पर किया जाएगा। समिति की रिपोर्ट का पूरी तरह से अध्ययन करने के बाद इस बात का फैसला लिया जा सकेगा। अभी फिलहाल MTNL की ओर से एक खास बात को जरूर साफ कर दिया गया है। वह यह कि शेयर बाजार से उसे डीलिस्ट करने की कोई भी योजना नहीं है। न ही तो ऐसा कोई प्रस्ताव ही विचारधीन है।  

इसीलिए दी MTNL ने सफाई

गौरतलब है कि डीलिस्टिंग की रिपोर्टों के सामने आने के बाद MTNL के शेयरों में करीब 20 फीसदी की उछाल आ गई थी। इसी नतीजे के सामने आने के बाद कंपनी ने इस तरह की सफाई दी थी। जानकारी है कि दूरसंचार विभाग (डॉट) की ओर से IIM बेंगलुरु को BSNL और MTNL के विलय को लेकर  व्यावहारिकता पर रिपोर्ट तैयार करने के लिए कहा गया था। उसके बाद नतीजे के तौर पर दोनों सरकारी कंपनियों में एक बार फिर से जान फूंकने के लिए डॉट ने कई तरह के प्रयास किए हैं।

ये कहती है बाजार रिपोर्ट

ज्यादा जानकारी के लिए आपको बता दें कि ये दोनों ही कंपनियां लगातार घाटे की ओर अग्रसर हो रही हैं। वहीं ये भी देखा गया है कि निजी टेलीकॉम ऑपरेटर्स के हाथों से ये कंपनियां अपनी बाजारी हिस्सेदारी को भी गंवाती जा रही हैं। गौरतलब है कि MTNL दिल्ली में और साथ ही साथ मुंबई में भी अपनी सेवा देती है। वहीं BSNL तो पूरे देश के हिस्से में अपनी सेवा प्रदान करती है।

Hindi News from Business News Desk

Posted By: Ruchi D Sharma

Business News inextlive from Business News Desk