1050 सड़क हादसे हुए 2018 में

03 हादसे औसतन रोज हुए

484 लोगों की जान गई

907 लोग हुए थे घायल

याद आ गया 05 जून 2017 का हादसा

बिथरी चैनपुर में इंवर्टिस तिराहे पर ट्रक से हुई भीषण टक्कर के बाद बस में भीषण आग लग गई थी, जिससे 25 लोग जलकर मारे गए के. रात करीब एक बजे बस दिल्ली से गोण्डा जा रही थी.

-----------------------

फरीदपुर टोल प्लाजा के पास बाइक को टक्कर मारने के बाद हुआ हादसा

- चार किमी तक बाइक को घसीटते ले गई बस, बाइक में लगी आग ने बस को चपेट में लिया

- बस डिवाइडर से टकराकर रुकी, स्टूडेंट्स ने खिड़की कूदकर बचाई जान, इलाज के दौरान बाइक सवार की मौत

बरेली. आग की लपटे थीं और स्टूडेंट्स को अपनी जान बचाने के लिए कूदना ही था. स्टूडेंट्स चिल्ला रहे थे. उन्हें अपनी जान का डर था पर सब सही सलामत बच गए. यह किसी करिश्मे से कम नहीं था. मौत 45 स्टूडेंट्स को छू कर निकल गई. स्टूडेंट्स यह याद करते हुए सहम जाते हैं. उनके लोटस इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट की बस थर्सडे दोपहर एक बाइक को टक्कर मारने के बाद उसे चार किमी तक घसीटते ले गई. बाइक से उठी आग ने बस को भी चपेट में ले लिया, जिससे यह फरीदपुर टोल प्लाजा के पास आग का गोला बन गई. बस शाहजहांपुर हाईवे स्थित लोटस इंस्टीट्यूट से स्टूडेंट्स को ड्रॉप करने जा रही थी. हादसे में फरीदपुर निवासी बाइक सवार राकेश और उनका पुत्र रवि गंभीर रूप से घायल हो गए. दोनों को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान राकेश की मौत हो गई.

शोर मचाने पर भी न रोकी बस

हादसे में बाल-बाल बचे स्टूडेंट सुमित के मुताबिक, दोपहर के तीन बजे इंस्टीट्यूट में छुट्टी हो गई थी. स्टूडेंट्स को ड्रॉप करने के लिए कटरा निवासी ड्राइवर वसीउल्लाह ने बस (यूपी 81 ए एफ 9286) को इंस्ट्टीयूट से बाहर निकाला. बस डिवाइडर के कट को पार कर ही रही थी कि पीछे से आ रहे बाइक सवार उसके नीचे आ गए. बाइक बस के पिछले पहियों में फंस गई. इससे घबराया ड्राइवर बस को लेकर भाग खड़ा हुआ. इस दौरान बाइक बस के नीचे ही फंसी रही. कुछ लोग बस का पीछा करने लगे. यह देख ड्राइवर ने बस की रफ्तार और तेज कर दी. स्टूडेंट्स ने ड्राइवर को बस रोकने के लिए कहा, लेकिन उसने उनकी नहीं सुनी.

बाइक के फ्यूल से लगी आग

इसी दौरान बाइक के फ्यूल टैंक से पेट्रोल लीक होने लगा. तभी रगड़ से उठी चिंगारी से बाइक में आग लग गई. देखते ही देखते आग बस के नीचे फैल गई. धुआं उठने पर स्टूडेंट्स चिल्लाने लगे, लेकिन ड्राइवर बस दौड़ाता रहा.

पुलिस ने रुकवाई बस

रिलायंस पेट्रोल पंप के सामने खड़ी डायल 100 की पीआरवी में सवार पुलिस टीम ने बस में आग देखकर अपनी गाड़ी भी उसके पीछे दौड़ा दी. फिर बस को ओवेरटेक कर ड्राइवर को रुकने का इशारा किया. पुलिस को देख ड्राइवर ने बस पर अपना नियंत्रण खो दिया और यह डिवाइडर से टकराकर रुक गई. चार किमी तक बाइक को घसीटते आई बस में आग तब तक विकराल रूप धारण कर चुकी थी.

ड्राइवर-हेल्पर गिरफ्तार

खुद को फंसा देख स्टूडेंट्स जान बचाने के लिए बस की खिड़की से कूदने लगे. किसी तरह उन्होंने अपनी जान बचाई. इतने में पीआरवी की सूचना पर फायर ब्रिगेड की गाड़ी मौके पर पहुंच गई और एक घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया. ड्राइवर और हेल्पर को गिरफ्तार कर लिया गया है. हादसे से रोड कीदोनों साइड गाडि़यों का आवागमन रोक दिया गया था, जिससे जाम लग गया था.

------------------

अगर ड्राइवर टक्कर लगने के बाद बस रोक देता तो आग नहीं लगती और स्टूडेंट्स की जान खतरे में नहीं आती. मामले की जांच कराई जाएगी.

सोमदत्त, एफएसओ.

बस ड्राइवर की चूक के कारण हादसा हुआ. उसे गिरफ्तार कर लिया गया है. मामले की जांच के दौरान कॉलेज प्रबंधन से भी बात की जाएगी.

सतीश कुमार, एसएचओ फरीदपुर.

------------------------