08 है रीजन में डिपो की कुल संख्या

350 है रेगुलर ड्राइवर्स की संख्या

750 है संविदा पर कार्यरत ड्राइवर

सिविल लाइंस, जीरो रोड, प्रयाग, लीडर रोड, लालगंज, प्रतापगढ़, मिर्जापुर और बादशाहपुर डिपो आते हैं प्रयागराज रीजन के अन्तर्गत

ऐसे होगा टेस्ट

-प्रयागराज रीजन के किसी भी डिपो में ड्राइवरों के स्टेयरिंग पर बैठने से पहले और गंतव्य स्थान या डिपो तक पहुंचने पर बे्रन एनलाइजर टेस्ट अनिवार्य किया गया है.

-नाइट ड्यूटी पर निकलने वाले डिपो के सभी एआरएम को शाम पांच से रात बारह बजे तक संबंधित डिपो के रूट पर ड्राइवरों का नियमित टेस्ट का निर्देश दिया गया है.

-टेस्ट में किस रूट पर कौन ड्राइवर पास और फेल हुआ, इसकी रिपोर्ट एआरएम की ओर से हर दिन के अंतराल पर रीजन के आरएम और मुख्यालय को भेजी जाएगी.

-यमुना एक्सप्रेस वे पर हादसे के बाद अलर्ट हुआ रोडवेज प्रशासन, ड्राइवरों का होगा बे्रन एनलाइजर टेस्ट

prayagraj@inext.co.in
PRAYAGRAJ: यमुना एक्सप्रेस वे पर बीते दिनों एक खतरनाक एक्सीडेंट हुआ था. इसमें रोडवेज की एसी जनरथ में सवार एक दर्जन से अधिक यात्रियों की मौत हो गई थी. वजह बस चलाते समय ड्राइवर को झपकी आना बताई गई थी. रोडवेज बसें फिर इस तरह के हादसे का शिकार न हों इसके लिए रोडवेज प्रशासन अलर्ट हो गया है. इस क्रम में बस ड्राइवरों का बे्रन एनालाइजर टेस्ट कराया जाना अनिवार्य किया गया है. अगर ड्राइवर टेस्ट में फेल हो जाता है तो उसको बस चलाने की परमीशन नहीं दी जाएगी. प्रयागराज रीजन ने भी इस संबंध में रणनीति बनाई है.

गड़बड़ी पर इन नंबरों पर शिकायत
अगर रात के समय यात्रा कर रहे मुसाफिरों को ड्राइवरों के बर्ताव पर शक होता है तो इसके लिए वह रोडवेज प्रशासन द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर 9415049752 पर शिकायत कर सकते हैं. शिकायत दर्ज होने के बाद संबंधित ड्राइवर के खिलाफ कार्रवाई भी किए जाने की रणनीति तैयार की गई है. कार्रवाई करने से पहले ड्राइवर का भी पक्ष सुना जाएगा.

मुख्यालय से मिले निर्देश के बाद रीजन के प्रत्येक डिपो के ड्राइवरों का ब्रेन एनलाइजर टेस्ट कराने का निर्णय लिया गया है. बसों के डिपो से निकलने और वापस आने पर लगातार टेस्ट कराया जाएगा. नाइट ड्यूटी करने वाले एआरएम को भी रात के वक्त टेस्ट की सुविधा दी जाएगी.
-टीकेएस बिसेन, आरएम प्रयागराज रीजन