ममता बनर्जी ने दावा किया कि दरअसल उस कार्टून में एक संदेश भी था, जिसमें उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई थी. पश्चिम बंगाल के जादवपुर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर ने ये कार्टून ईमेल से भेजा था.

ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि फेसबुक, ट्विटर और एसएमएस के माध्यम से उनके खिलाफ साजिश रची गई. उन्होंने कहा, "मुझे फेसबुक पर दिखाया जा रहा है. अब मेरी बारी है. मैं अब आपको फेसबुक दिखाऊँगी."

एक पार्टी बैठक में प्रोफेसर अंबिकेश महापात्रा की ओर से भेजे गए कार्टून के मुद्दे पर ममता बनर्जी ने कहा, "ममता बनर्जी कोई कार्टून नहीं है. मीडिया का एक वर्ग इसे कार्टून कहता है. लेकिन वे गलत हैं. इस कार्टून में एक शब्द नष्ट करना लिखा हुआ है. इसका मतलब ये है कि ममता बनर्जी को जान से मारने की साजिश."

तर्क

इस कार्टून के प्रचारित होने के बाद प्रोफेसर महापात्रा को गिरफ्तार किया गया, लेकिन बाद में रिहा कर दिया गया था. इस मामले को लेकर काफी शोर-शराबा हुआ था और पश्चिम बंगाल सरकार की आलोचना भी हुई थी.

लेकिन ममता बनर्जी के तर्क दूसरे हैं. उन्होंने कहा, "प्रोफेसर ने इसे भेजने के लिए दूसरे के ईमेल का इस्तेमाल क्यों किया. प्रोफेसर अपने छात्रों को अच्छी सलाह देता है और उन्हें दिशा-निर्देश देता है. अगर एक रिक्शावाला अपराध करता है, तो वो आपराधिक कृत्य है और आप अपराध करो, तो आप प्रोफेसर हो. कानून सब पर लागू होता है."

ममता बनर्जी ने फेसबुक, ट्विटर और एसएमएस के माध्यम से राजनीतिक साजिश की भी बात कही. उन्होंने इसके लिए मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी और माओवादियों पर भी आरोप लगाया. उन्होंने आरोप लगाया कि ऐसे ईमेल कट्टर वामपंथी संगठनों की ओर से भेजे जा रहे हैं.

International News inextlive from World News Desk