- आंध्र प्रदेश के राजमंड्री भ्रष्टाचार से जुड़ा है मामला

- आरोपी ओएनजीसी अफसर वर्तमान में दून में है तैनात

DEHRADUN : आंध्र प्रदेश के राजमंड्री से जुड़े भ्रष्टाचार के मामले में थर्सडे को सीबीआई की टीम ने दून स्थित ओएनजीसी अफसर के घर पर छापा मारा. जहां से टीम ने प्रकरण से जुड़े कई महत्वपूर्ण दस्तावेज भी जब्त किए. इधर, सीबीआई ने करीब पौने पांच करोड़ के किसान लोन फर्जीवाड़े में फरार चल रहे बाजपुर के आरोपित किसान को अरेस्ट किया.

 

सीबीआई ने कई दस्तावेज किए बरामद

प्रकरण में संलिप्त अफसरों के ठिकानों पर सीबीआई देशभर में छापेमारी कर रही है. दरअसल, आंध्र प्रदेश के राजमंड्री में ओएनजीसी के एक प्रोजेक्ट में करीब 300 करोड़ का भ्रष्टाचार सामने आया था. इसी को देखते हुए सीबीआई ने ओएनजीसी के कई अफसरों के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों में मुकदमा दर्ज किया. प्रोजेक्ट में तैनात रहे ओएनजीसी के चीफ मैनेजर फाइनेंस रमेश राठौड़ इन दिनों दून में तैनात हैं. उनका नाम भी इस प्रोजेक्ट में हुए भ्रष्टाचार से जुड़ा है. सूत्र के अनुसार गुरुवार को ओएनजीसी के आरोपित ऑफिसर रमेश राठौड़ के दून स्थित घर पर छापे की कार्रवाई की गई. सीबीआई की टीम थर्सडे सुबह छह बजे राजेंद्रनगर स्थित लक्ष्मी टावर में छापेमारी को पहुंची. जहां टीम ने प्रोजेक्ट से जुड़ी फाइलें, बैंक पासबुक, चेक बुक, प्रॉपर्टी आदि के दस्तावेज कब्जे में लिए. सीबीआई के एएसपी अखिल कौशिक के मुताबिक विशाखापट्नम सीबीआई के निर्देश पर यह कार्रवाई दून समेत देशभर में एक साथ हुई है.

 

करोड़ों के लोन फर्जीवाड़े में किसान अरेस्ट

सीबीआई ने करीब पौने पांच करोड़ के किसान लोन फर्जीवाड़े में फरार चल रहे बाजपुर के आरोपित किसान को अरेस्ट किया. दून लाने के बाद आरोपी को कोर्ट में पेश किया गया. जिसके बाद सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने जूडिशियल कस्टडी में जेल भेज दिया है. उत्तराखंड ग्रामीण बैंक बाजपुर में 2017 में किसानों को बीज और उपकरण के नाम पर पौने पांच करोड़ का लोन आवंटित किया गया था. इस धनराशि से बीज व खेती उपकरण खरीदने के बजाय पैसा ठिकाने लगाने के आरोप हैं. शिकायत के बाद सीबीआई ने मामले की जांच शुरू की, जिसमें 18 लोगों को आरोपी बनाया. इस प्रकरण में बैंक मैनेजर व उपकरण बनाने वाली कंपनी के संचालक अभी भी जेल में बंद हैं. थर्सडे को आरोपी का पता चलने के बाद दून से सीबीआई की टीम बाजपुर रवाना हुई. जिसके बाद आरोपी किसान मंगल सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया.