जमशेदपुर (ब्यूरो)। टेक्नो इंडिया से संचालित चाईबासा इंजीनियरिंग कॉलेज के फ‌र्स्ट ईयर के स्टूडेंट की आत्महत्या मामले में पुलिस ने तीन इंजीनियरिंग छात्रों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इनमें सुमित कुमार चौबे और महेश कुमार पंडित समेत एक नाबालिग भी शामिल है। सुमित पर अप्राकृतिक यौनाचार और अन्य दो पर आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का आरोप लगा है। एसपी ने कहा कि पुलिस टीम ने 24 घंटे के अंदर मामले का उदभेदन किया है। तीनों गिरफ्तार आरोपियों के मोबाइल फोन को जब्त किया गया है। साथ ही मृतक के मोबाइल फोन के साथ सुसाइड नोट की मूल प्रति भी बरामद कर ली गई है।

ऐसे हुआ खुलासा
एसपी इंद्रजीत माहथा ने शुक्रवार को बताया कि छात्र की गुमशुदगी एवं सुसाइड नोट की सत्यता की जांच के लिए सदर डीएसपी अमर कुमार पांडेय के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया। आत्महत्या करने वाले छात्र के परिजनों ने भी चाईबासा पहुंच कर पुलिस को आवेदन दिया है। इससे पूर्व जानकारी मिली थी कि चाईबासा के महुलसाई स्थित तालाब से एक शव बरामद हुआ है। शव की पहचान इंजीनिय¨रग कॉलेज चाईबासा के गुमशुदा छात्र के रूप में की गई है। इसके बाद पुलिस ने जांच शुरू करते हुए छात्र के सुसाइड नोट के सहारे सहपाठी सुमित कुमार चौबे और महेश कुमार पंडित के साथ एक नाबालिग छात्र से पूछताछ की। जांच में यह बात सामने आई है कि छात्र के साथ उसके रूम मेट सुमित कुमार चौबे द्वारा अप्राकृतिक यौनाचार किया गया। इसके बाद छात्र को ब्लैकमेल कर रहा था। साथ ही तीनों छात्रों द्वारा दुष्प्रचार भी किया जा रहा था। पुलिस ने जांच के क्रम में तीनों छात्रों को दोषी पाते हुए गिरफ्तार कर लिया है। दो छात्र को जेल भेज दिया गया है, जबकि एक नाबालिग को सुधार गृह भेजा गया है।

कालेज प्रबंधन की भूमिका की भी जांच
मृतक के परिजनों द्वारा मृतक के सुसाइड नोट के संबंध में उन्हें सही जानकारी न देने को लेकर कॉलेज प्रबंधन पर लापरवाही एवं गुमराह करने का आरोप लगाया गया है इसलिए इंजीनिय¨रग कॉलेज प्रबंधन की भूमिका की भी जांच की जा रही है। खास कर हॉस्टल इंचार्ज मनोज मंडल के ऊपर परिजनों ने आरोप लगाया है। इसमें पुलिस जांच कर रही है, जो भी दोषी होगा उन पर कार्रवाई की जाएगी। जब्त सामान में पांच मोबाइल फोन, तीन नोट बुक, एक फोन से बातचीत की सीडी बरामद की गई है। जांच दल में डीएसपी अमर पांडेय के साथ प्रवीण कुमार, दिलीप कुमार, तारणी प्रसाद समेत पुलिस बल के जवान शामिल थे।

मोबाइल कवर में छुपाया था सुसाइड नोट, तालाब किनारे मिला
एसपी ने कहा कि इंजीनिय¨रग कॉलेज के छात्र के आत्महत्या करने के बाद पुलिस टीम सक्रिय होकर जांच में जुट गई थी। सबसे अहम था आत्महत्या करने वाले छात्र का सुसाइड नोट बरामद करना। पुलिस ने हॉस्टल के सभी कमरों की तालाशी ली लेकिन सुसाइड नोट नहीं मिला। रात में बरसात के बावजूद पुलिस टीम महुलसाई के उस तालाब के पास जांच करने पहुंची जिसमें कूदकर छात्र ने आत्महत्या की थी। तालाशी के क्रम में छात्र का मोबाइल तालाब किनारे पड़ा मिला। मोबाइल को जांच करने पर पता चला कि मोबाइल के कवर के पीछे छात्र ने सुसाइड नोट को छुपा कर रखा था, जिसे पुलिस ने बरामद कर लिया है।
JAMSHEDPUR@inext.co.in

Posted By: Inextlive