सर्दियों में जहां पर्स लूट की वारदातें होती हैं वहीं गर्मियों में चेन लूट की वारदातें बढ़ जाती हैं. पिछले दो माह में 50 से अधिक चेन लूट की वारदातें हो चुकी हैं. इन लुटेरों को पुलिस भी रोकने में नाकाम है.

हमेशा ताक में रहते हैं
आए दिन हो रही चेन लूट की वारदातों से लगता है मानो लुटेरे सडक़ पर इंतजार कर रहे हों. सडक़ पर निकलते ही लुटेरे चेन पर झपट पड़ते हैं और लूटकर ले जाते हैं. कई बार आप चेन को बचाने के लिए बाइक या फिर किसी वाहन से गिर भी जाती हैं और चोटिल हो जाती हैं. कुछ केस में तो महिलाओं को लूट के दौरान अपनी जान तक गंवानी पड़ गई. कुछ समय पहले एसपी सिटी ऑफिस के सामने एक वारदात हुई. जिसमें लुटेरों ने एक महिला के गले से चेन लूटी और वह बाइक से गिर गई. जिसकी मौके पर मौत हो गई थी.

नकली चेन से भी खतरा
सडक़ों पर खुलेआम लूट करने वाले ये लुटेरे काफी शातिर हो चुके हैं. जो चेन लूटने के साथ असली-नकली भी देख लेते हैं. लुटेरे चेन लूटने के बाद या तो चेन को फेंक कर चले जाते हैं या फिर गुस्से में वारदात करने पर उतारू हो जाते हैं. कई ऐसी घटनाएं हो चुकी है. इसके चलते महिलाओं को जान का भी खतरा होता है. सोने जैसी दिखने वाली नकली चेन भी जानलेवा हो सकती है. जो खिंचने पर टूटती नहीं है. जिससे महिला गिर भी सकती है.

नाकेबंदी के बाद भी लूट                                                                                                                             पुलिस के शहर में करीब दो दर्जन जगहों पर नाकाबंदी है. जहां पुलिस रहती है और चेकिंग करती है. लुटेरे फिर भी लूट करने के बाद निकल जाते हैं. शहर में सबसे अधिक चेन लूट की घटनाएं उन इलाकों में होती हैं जहां मार्केट है या फिर मार्केट के आसपास. नौचंदी थाना, सिविल लाइन, सदर बाजार, लालकुर्ती, कोतवाली, मेडिकल, ब्रह्मपुरी थाना क्षेत्रों में चेन लूट की अधिक वारदातें होती हैं.
पिछले कुछ साल
पिछले पांच साल में 3500 से अधिक चेन लुटीं. चेन लूट की घटना से परेशान होकर पुलिस ने 2012 में चेन लुटेरों की फोटो सार्वजनिक की गईं. जिसमें एक महिला सहित करीब चालीस बदमाश शामिल हैं. इन बदमाशों को पुलिस पकड़ती है और जेल भेज देती है. लेकिन इनके जैसे कई और बदमाश इस शहर की सडक़ों पर घूम रहे हैं. हाल में टीपी नगर में पकड़े गए हाईस्कूल के तीन छात्र घर से स्कूल के लिए निकलते थे और रास्ते में चेन और पर्स लूटते थे. चेन लूट की घटनाओं में छात्रों के साथ

बचना मुश्किल है
गर्मियां क्या शुरू हुई, चेन लुटेरों की मौज आ गई. सिटी में रोजाना दो-तीन चेन लूट की वारदातें हो रही हैैं. हालांकि महिलाओं ने चेन पहनना बहुत कम कर दिया है, लेकिन अगर कोई पहनकर निकलता है तो लुटेरों के टारगेट पर होता है. अप्रैल और मई में 50 से अधिक चेन लूट की वारदातें हो चुकी हैं. ऐवरेज एक चेन को अगर बीस ग्राम का माना जाए तो दो माह में 27 लाख रुपए का एक किलो सोना सडक़ों पर लूटा जा चुका है.
आए दिन लूटपाट
- 19 मई 2013 को गढ़ बस अड्डे के सामने एक महिला के गले से लुटेरे चेन लूटकर ले गए.
- 19 मई 2013 को बागपत बाईपास पर बस का इंतजार कर रही एक महिला के गले से लुटेरे चेन लूटकर ले गए.
- 13 मई 2013 को मेडिकल थाना क्षेत्र में शेरगढ़ी की रहने वाली एक महिला से लुटेरों ने चेन लूटी.
- 13 मई 2013 को नौचंदी थाना क्षेत्र में आरटीओ पुल के पास भाई के साथ घर जा रही छात्रा से बाइक सवार लुटेरों ने चेन लूट ली.
- 13 मई 2013 को शास्त्री नगर एल ब्लॉक की रहने वाली एक महिला की चेन पटेल मंडप के पास लूटी थी.
- 9 मई 2013 को नई मोहनपुरी में एक महिला के गले से लुटेरे चेन लूटकर फरार हो गए.


"सभी अधिकारी और पुलिस अपराध रोकने में लगे हुए हैं. चेन लूट की घटनाएं करने वाले सभी बदमाश बाहर के थे. जिनमें कुछ बदमाश पुलिस ने पकड़ लिए है. वारदात करने वाले सभी बदमाशों को पकडऩे में पुलिस लगी हुई है."
- ओपी सिंह, एसपी सिटी