Chaitra Navratri 2021 Shakti Peeth Live Aarti-Darshan from famous temples of India: 13 अप्रैल से चैत्र नवरात्र शुरु होते ही श्रद्धालुओं को फेमस दुर्गा मंदिरों में दर्शन के लिए पहुंचना शुरु हो जाएगा। हालांकि कोरोना संकट के कारण पिछले कई महीनों से त्‍योहारों का उत्‍साह कम ही देखने को मिला है, लेकिन अब कोरोना का असर पहले से कम होने के कारण मां दुर्गा के इस त्‍योहार की रौनक देखते ही बनेगी। तो अगर आप इस नवरात्रि किसी देवी शक्तिपीठ का दर्शन करने नहीं जा पा रहे हैं तो घर बैठे ही कीजिए मां के विविध रूपों के दर्शन और आरती वो भी लाइव। तो आइए शुरु करते हैं...

Mata Chintpurni Live Aarti and Darshan: सभी भक्‍तों की चिंता को हरने वाली मां छिन्नमस्तिका, जिन्‍हें मां चिंतपूर्णी भी कहा जाता है, हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले के एक मनोरम स्‍थल पर वास करती हैं। मान्‍यता है कि इस स्‍थान पर मां पार्वती के पवित्र पांव धरा पर गिरे थे। माता चिंतपूर्णी मन्दिर के इतिहास के बारे प्राचीन कथाएं बताती हैं कि 14वीं शताब्दी में माई दास नामक एक देवी भक्त ने इस स्थान की खोज की थी। मां द्वारा स्‍वप्‍न देने पर उस भक्‍त ने विशाल वटवृक्ष के नीचे मां की पिंडी बनाकर पूजा शुरु की और मां के आशीर्वाद से ही एक शिला के नीचे बड़ा जलस्‍त्रोत प्राप्‍त किया। आज उसी वटवृक्ष के नीचे मां चिन्‍तपूर्णी का भव्‍य मंदिर बना हुआ है। चिंतपूर्णी मंदिर जाने के लिए श्रद्धालु सड़क, ट्रेन और हवाई मार्ग सभी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। यह शक्तिपीठ मंदिर हिमाचल प्रदेश, पंजाव के प्रमुख शहरों व चंडीगढ़ से सड़क मार्ग द्वारा सीधे जुडा़ है। यहां का नजदीकि रेलवे स्‍टेशन ऊना है, जो मंदिर से करीब 55 किमी दूर है। जबकि सबसे करीब का हवाई अड्डा धर्मशाला के नजदीक कांगड़ा में है, जो यहां तकरीबन 70 किमी दूर है। नवरत्रि के दौरान मंदिर ट्रस्‍ट श्रद्धालुओं के लिए मां चिंतपूर्णी के लाइव दर्शन व आरती की इंटरनेट पर लाइव स्‍ट्रीमिंग की सुविधा उपलब्‍ध कराता है।

Happy Navratri 2021 Wishes, Images, Status: शारदीय नवरात्र में मां दुर्गा की कृपा अपनों तक पहुंचाएं, इन मैसेज संग भेजें नवरात्रि की शुभकामनाएं

Maa Vaishno Devi Live Aarti, Darshan: माता दुर्गा यूं तो हर रूप में अपने भक्‍तों की पुकार सुनती हैं, लेकिन वैष्णो देवी की बात की सबसे अलग है, जहां मां दुर्गा पवित्र पिंडियों के रूप में विराजमान हैं। वैष्णो देवी मंदिर जम्मू-कश्मीर में मौजूद है। वैष्णो देवी मंदिर की लोकप्रियता का अंदाजा लगा पाना आसान नहीं है। पूरे देश में इसी शक्तिपीठ पर मां के भक्तों की भीड़ शायद सबसे ज्‍यादा जुटती हैं। त्रिकूट पर्वत पर बसे, जम्मू शहर से 61 किलोमीटर उत्तर की ओर और समुद्र तल से 1584 मीटर की ऊंचाई पर स्‍थापित इस मंदिर का खास धार्मिक महत्‍व हैं। बता दें कि वैष्णो देवी मंदिर मार्ग में स्थित 'भवन' मंदिर से सुबह और शाम को मां की आरती का रोजाना लाइव प्रसारण किया जाता है, जिससे भक्‍त कहीं भी बैठकर मां के दिव्‍य दर्शन कर सकते हैं।

Navratri 2021: जानें नवरात्रि के किस दिन पहने जाते हैं कौन से रंग के कपड़े, सारी मनोकामनाएं होती है पूरी

Maihar Devi Mandir Live Aarti & Darshan: मां दुर्गा का एक और प्रसिद्ध शक्ति पीठ मध्‍य प्रदेश के मैहर जिले में स्थित है। इस मंदिर को शारदा देवी मंदिर या मैहर देवी के नाम से भी जाना जाता है। यह मंदिर त्रिकूट पर्वत की एक चोटी पर करीब 600 फीट की ऊँचाई पर स्थित है। मंदिर में मां के विग्रह के दर्शन के लिए भक्‍तों को करीब 1 हजार सीढि़यां चढ़नी पड़ती हैं। हालांकि पिछले कुछ वर्षों में मैहर देवी मंदिर तक रोप वे की सुविधा शुरु होने से श्रद्धालु कुछ ही मिनट में पहाड़ की चोटी पर पहुंच सकते हैं। बता दें कि मा दुर्गा के सभी शक्तिपीठों में शायद यही एकमात्र मंदिर है, जहां से साल भर चौबीसो घंटे मां के लाइव दर्शन की खास व्‍यवस्‍था की गई है। यानि श्रद्धालु कभी भी मैहर देवी के दर्शन कर सकते हैं।

Kamakhya Devi Temple Live Darshan: असम के गुवाहाटी में स्थित मां कामाख्या मंदिर, माता दुर्गा के सर्वाधिक लोकप्रिय मंदिरों में से एक है, जो नीलांचल पर्वत पर मौजूद है। मां दुर्गा के 108 शक्तिपीठों में प्रमुख है कामाख्या मंदिर। बताया जाता है माता सती की योनि इस जगह पर गिरी थी। मंदिर के मीतर मां के योनि रूप को साड़ी में लपेटकर फूलों के श्रंगार के साथ सजाया जाता है। साल में दो बार यानि आंबुची मेले और दुर्गा पूजा के मौके पर कामाख्‍या देवी मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ मां के दर्शन को जुटती है।

Spiritual News inextlive from Spiritual News Desk