1993 में गीतांजलि एक्सप्रेस को उड़ाने की थी साजिश

स्न्क्त्रन्ढ्ढयश्वरुन् : सरायकेला खरसावां जिले की गम्हरिया पुलिस ने सरायकेला विधायक सह झामुमो के केंद्रीय उपाध्यक्ष चंपई सोरेन के खिलाफ वर्ष 1993 में घटित बमकांड मामले में आरोप पत्र गठित कर न्यायालय में समर्पित कर दिया है. पुलिस अधीक्षक चंदन कुमार सिन्हा ने बताया कि घटना महुलडीह में हुई थी. इसमें कई लोगों की मौत हो गई थी. गम्हरिया थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी. इसमें चंपई सोरन समेत दस लोग आरोपित हैं. उक्त कांड के आरोप पत्र से चंपई सोरेन का नाम हटा दिया गया था.

दोबारा खुली फाइल

राज्य सरकार के निर्देशानुसार कांड की फाइल दोबारा खोली गई. एसपी ने कहा कि प्राथमिकी के आधार पर दोबारा जब जांच की गई तो चंपई सोरेन दोषी पाए गए. इसके आधार पर आरोप पत्र गठित कर न्यायालय को आरोप पत्र सौंपा गया है.

ट्रेन उड़ाने की थी साजिश

वर्ष 1993 की बात है. झारखंड अलग राज्य बनाने के लिए आंदोलन चल रहा था. गम्हरिया के पास गीतांजलि एक्सप्रेस ट्रेन को विस्फोट कर उड़ाने की साजिश रची गई थी. इसी दौरान बम विस्फोट हो गया. तब तीन लोगों की मौत हो गई थी.

-----