टीबी हॉस्पिटल में आरक्षित हुआ बेड, हुई पीडियाट्रिशन की नियुक्ति

टीबी से ग्रसित बच्चों का शुरू हुआ बेहतर इलाज

vineet.tiwari@inext.co.in

ALLAHABAD: टीबी (ट्यूबल कुलोसिस) जैसी खतरनाक बीमारी बच्चों को हो जाए तो टेंशन लेने की जरूरत नहीं है. तेलियरगंज के टीबी हॉस्पिटल में उनके इलाज की मुकम्मल व्यवस्था हो गयी है. दवाएं उपलब्ध हैं, डॉक्टर तैनात कर दिया गया है और भर्ती की भी व्यवस्था कर दी गयी है. अब तक नार्मल डॉक्टर ही बच्चों के टीबी का इलाज कर रहे थे. उन्हें स्पेशल ट्रीटमेंट उपलब्ध नही हो पा रहा था.

उपलब्ध हो गई डाट्स की दवाएं

एक माह के भीतर 600 मरीजों को पीडियाट्रिक ओपीडी में देखा गया है और इनमें से 20 को भर्ती भी किया गया है. डॉक्टर बताते हैं कि बच्चों में टीबी के संक्रमण के चांसेज अधिक होते हैं. इसलिए उन्हें स्पेशल ट्रीटमेंट की आवश्यकता होती है. नियुक्त पीडियाट्रिशन डॉ. मनीष चौरसिया बताते हैं कि हॉस्पिटल में बच्चों की टीबी के इलाज की सभी दवाएं उपलब्ध करा दी गई हैं. उन्हें डॉट्स के तहत तमाम दवाएं दी जा रही हैं. साथ ही भर्ती के लिए अभी तक कोई खास व्यवस्था नही थी. उन्हें आम मरीजों के साथ भर्ती किया जाता था. अब बच्चों के लिए महिला वार्ड में छह बेड आरक्षित कराए गए हैं.

बॉक्स..

.. तो मत चलाइए टीबी की दवा

बच्चों की ओपीडी शुरू होने के बाद एक और हकीकत सामने आई. ऐसे कई मरीज सामने आए जिन्हें पेट में गांठ की समस्या थी और उनको टीबी का इलाज दिया जा रहा था. यह अनावश्यक था. डॉक्टर बताते हैं कि ऐसे बच्चों को चिंहित कर उनकी टीबी की दवा बंद करवा दी गई है. अब ऐसे मरीजों का सही इलाज किया जा रहा है. शनिवार को ऐसे तीन बच्चों की दवा को बंद किया गया.

टीबी के लक्षण

भूख नही लगना

वजन कम होना

बुखार बना रहना.

टीबी होने के कारण

कंजस्टेड इलाकों में टीबी का संक्रमण होना.

माता-पिता से बच्चों को टीबी हो जाना.

स्कूल या घर की मेड से टीबी का संक्रमण हो जाना.

20

ओपीडी में रोजाना आने वाले मरीजों की संख्या

20

एक माह में भर्ती मरीजों की संख्या (इनकी उम्र 13 साल से कम है)

15

फरवरी से शुरू हुई ओपीडी

06

बेड बच्चों के लिए किए गए हैं रिजर्व

टीबी एक खतरनाक रोग है. बच्चों को इसके विशेष इलाज की जरूरत होती है. टीबी हॉस्पिटल में यह उपलब्ध है. ओपीडी में मरीजों की संख्या बढ़ रही है. उनकी दवाएं और भर्ती के लिए बेड की व्यवस्था भी की गई है.

डॉ. मनीष चौरसिया,

पीडियाट्रिशन, टीबी हॉस्पिटल तेलियरगंज