कानपुर। स्मार्टफोन आजकल हर किसी के लाइफ का एक खास हिस्सा बन गया है। एक सर्वे में यह बात सामने आई है कि बच्चे इन दिनों अपने माता-पिता से बात करने की तुलना में स्मार्टफोन पर दोगुना समय व्यतीत कर रहे हैं। डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, बच्चे अब एक सप्ताह में लगभग 23 घंटे अपने स्मार्टफोन पर बीता देते हैं, जबकि दिन में वह दो घंटे से भी कम अपने परिवार से बात करते हैं। लंदन में 2,000 को लेकर किया गया यह सर्वे बेहद चौकाने वाला है और इंग्लैंड के चीफ मेडिकल अफसर, डेम सैली डेविस ने बच्चों के माता-पिता को चेतावनी दी है कि वे अपने बच्चे को जितना हो सके स्मार्टफोन से दूर रखें और साथ ही खाने और सोने के समय उन्हें फोन यूज ना करने दें। उनका कहना है कि अगर ऐसा नहीं किया गए, तो इसका सीधा असर उनके सेहद पर देखने को मिलेगा।

मानसिक और शारीरिक रूप से पड़ जायेंगे बीमार
द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक, हाल ही में कई बच्चों के माता-पिता यह जानना चाहते थे कि उनके बच्चें फोन, टैबलेट और गेम कंसोल में कितना समय बीतते हैं। इसके बाद 'सेन्ससवाइड' ने इस मामले को लेकर एक सर्वे किया। सर्वे में पाया गया कि बच्चे अपने पर्सनल डिवाइस पर एक दिन में लगभग 3 घंटे 18 मिनट खर्च कर रहे हैं और केवल 1 घंटे 43 मिनट अपने पेरेंट्स से बातचीत कर रहे हैं। रिसर्च के मुताबिक, लंदन में बच्चे सबसे अधिक समय लगभग 4 घंटे 42 मिनट फोन पर खर्च करते हैं। इंग्लैंड के चीफ मेडिकल अफसर का कहना है कि स्मार्टफोन पर समय देना एक तरह से अच्छी बात है क्योंकि दुनिया से जुड़ी हर एक जानकारी उस पर मिल जाती हैं लेकिन ज्यादा समय स्मार्टफोन पर बीताने से बच्चे शारीरिक और मानसिक रूप से बीमार पड़ जायेंगे।

स्टडी का दावा, आस्था में विश्वास ना रखने वालों की तुलना में धार्मिक लोग ज्यादा रहते हैं खुश

Posted By: Mukul Kumar

International News inextlive from World News Desk