BAREILLY: इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट्स में एडमिशन के लिए यूपीटीयू ने च्वाइस लॉक के लिए एक और दिन का समय दिया है. गत 16 जून से 23 जून तक डॉक्यूमेंट वेरीफिकेशन का काम हुआ. 24 जून से 26 जून तक च्वाइस लॉक की प्रक्रिया होनी थी. लेकिन 24 जून को च्वाइस लॉक शुरू ही नहीं हो सकी. सीट मैट्रिक्स अपलोड न होने से स्टूडेंट्स च्वाइस लॉक नहीं कर पाए. काउंसलिंग के नोडल ऑफिसर प्रो. जगवीर सिंह ने बताया कि सैटरडे को भी स्टूडेंट्स च्वाइस लॉक कर सकते हैं. 28 जून को सीट अलॉटमेंट का रिजल्ट डिक्लेयर कर दिया जाएगा. 2 जुलाई से 4 जुलाई तक च्वाइस लॉक की प्रक्रिया फिर से शुरू की जाएगी. जिसमें 35,001 रैंक से बाकी स्टूडेंट्स को अवसर दिया जाएगा.

30,000 स्टूडेंट्स ने च्वाइस लॉक

दो दिनों के च्वाइस लॉक की प्रक्रिया में यूपीटीयू को अच्छा रिस्पॉन्स देखने को मिला. पहले फेज के च्वाइस लॉक के लिए 35,000 रैंक तक के स्टूडेंट्स को बुलाया गया था. महज दो दिनों में करीब 30,000 स्टूडेंट्स च्वाइस लॉक कर चुके थे. इसी रिस्पॉन्स को देखते हुए ही यूपीटीयू ने च्वाइस लॉक के लिए एक दिन और का समय दिया है. स्टूडेंट्स में आईटी क्षेत्र के कोर्सेज में एडमिशन लेने का सबसे ज्यादा क्रेज देखने को मिला है. कम्प्यूटर साइंस कोर्स स्टूडेंट्स की पहली पसंद रही. इसके बाद स्टूडेंट्स आईटी कोर्स में अपनी च्वाइस लॉक की. इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स, केमिकल और मैकेनिकल स्ट्रीम स्टूडेंट्स की च्वाइस में बाद के क्रम में हैं.

Posted By: Inextlive