- राजधानी को मिलेगा सीएनजी बसों का तोहफा

- इलेक्ट्रिक बसों के बाद आएंगी सीएनजी बसें

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW: अब ना तो खटारा बसों में सफर करने की मजबूरी होगी और ना ही बस स्टॉप पर खड़े होकर इनका घंटों इंतजार करना होगा. अगले साल शहर में 300 सीएनजी बसों का संचालन शुरू होगा. इनमें सौ बसें इलेक्ट्रिक होंगी तो 200 बसें सीएनजी से चलेंगी. नगरीय परिवहन निदेशालय ने शहर में प्रदूषण और पैसेंजर्स की समस्या को ध्यान में रखते हुए अगले साल शहर में सिटी बसों का जाल बिछाने की तैयारी की है. नगरीय परिवहन निदेशालय के अनुसार इलेक्ट्रिक बसों का संचालन अगले दो महीने में शुरू होने की संभावना है.

दस साल पहले शुरू हुई थी सीएनजी बस सेवा

शहर में बेहतर पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम के लिए नगरीय परिवहन निदेशालय शहर में 100 इलेक्ट्रिक और 200 सीएनजी बसों के संचालन की तैयारी कर रहा है. शहर में सीएनजी से चलने वाली बसों की शुरुआत 2009 में हुई थी. उस समय शहर में तकरीबन 300 नई सीएनजी बसों का संचालन शुरू किया गया था. जेएनएनयूआरएम योजना के तहत इन्हे शहर में लाया गया था, लेकिन मेंटीनेंस के अभाव में जल्द ही इन बसों का दम निकल गया.

हो रहा है 40 इलेक्ट्रिक बसों का संचालन

खटारा बसों को शहर से हटाने के लिए नगरीय परिवहन निदेशालय ने तैयारी शुरू कर दी है. निदेशालय के अधिकारियों के अनुसार शहर में फिलहाल 40 इलेक्ट्रिक बसों का संचालन तीन रूटों पर हो रहा है. अगले दो महीने में 100 अन्य इलेक्ट्रिक बसों का संचालन शुरू हो जाएगा. इसकी प्रक्रिया पूरी कर ली गई है. इसके अलावा सीएनजी बसों की खटारा हालत को देखते हुए नगरीय परिवहन निदेशालय 1525 बसें प्रदेश के दस अन्य शहरों के लिए देगा. इसमें लखनऊ के लिए 200 बसें दी जाएंगी. इन बसों के आने के बाद शहर में चल रही पुरानी खटारा सीएनजी बसों को हटा दिया जाएगा. आने वाली सभी सीएनजी बसें वातानुकूलित होंगी. ऐसे में अगले 100 इलेक्ट्रिक और 200 सीएनजी बसों के आने से पैसेंजर्स का सफर शहर की सड़कों पर और भी आसान हो जाएगा. अधिक संख्या में बसों के चलने से जहां शहर के अधिकांश इलाकों में इनकी सेवा शुरू की जाएगी सकेगी वही इन बसों के लिए रोड पर पब्लिक को घंटों इंतजार नहीं करना होगा.

कोट

अभी इलेक्ट्रिक बसों को लाने की तैयारी की जा रही है. इसके बाद शहर में 200 नई सीएनजी बसों के संचालन की तैयारी होगी. इन बसों के संचालन से शहर में पैसेंजर्स को खासी राहत मिलेगी.

अजीत सिंह

संयुक्त निदेशक, नगरीय परिवहन निदेशालय

Posted By: Inextlive