- भवनों और गु्रप हाउसिंग सोसाइटियों का वीडीए करायेगा सर्वे

- घर के बाहर नहीं लगे हैं पेड़ तो होगी कार्रवाई

varanasi@inext.co.in

VARANASI

बनारस के आनंद कानन को तहस नहस कर 400 से अधिक कालोनियां बसा दी गई हैं, जहां हवेली, कोठी समेत छोटे-बड़े मकानों की संख्या हजारों में है, लेकिन अधिकांश लोगों ने हरियाली का ख्याल नहीं रखा. यही कारण है कि 80 फीसद मकानों के आगे पौधे नहीं लगाये गये हैं. जबकि बिल्डिंग बायलॉज के अनुसार यदि आपने अपने घर के आगे पौधे नहीं लगा रखे हैं तो मकान मालिक पर कार्यवाई हो सकती है. वीडीए शहर में हरियाली की सच्ची हकीकत जानने को सर्वे करवायेगा. इसके बाद यदि घर के सामने पौधे नहीं मिले तो भवन का नक्शा भी कैंसिल हो सकता है.

पौधे लगाने को करेंगे जागरूक

वीडीए वीसी राहुल पांडेय ने कहा कि शहर की हरियाली कम होना चिंता की बात है. हर साल लाखों पौधे लगाये जाते हैं, लेकिन संरक्षण नहीं होने से वह दम तोड़ देते हैं. पौधे का संरक्षण सबसे बड़ा काम है. उन्होंने बताया कि मकान मालिकों को पौधे लगाने के लिए जागरूक किया जाएगा. इसके अलावा बिल्डर्स को भी बॉयलाज के तहत पौधे लगाने के लिए कहा जाएगा. अगर जरूरत पड़ेगी भी नोटिस भी जारी किया जाएगा.

अधिकतर जगह नियमों का उल्लंघन

शिवाजी नगर, हरिओम नगर, संतरघुवर नगर, विनायका, विवेकानंद, साकेत नगर समेत शहर की अधिकांश कॉलोनियों में इस नियम का उल्लंघन हो रहा है. कहीं भी नियमानुसार पौधे नहीं लगाए गए हैं. वहीं पेड़ लगाने वाले नियमों को देखें तो बीएचयू, डीएलडल्ब्यू, कैंटोमेंट के अलावा रविंद्रपुरी, गुरुधाम, कबीर नगर, अशोक विहार, टैगोर टॉवर, भुनेश्वर कालोनी समेत कुछ कालोनियों में हरियाली देखने को मिलती है.

यह है नियम

आवासीय भूखंड में

200 वर्ग मीटर से कम पर 1 पेड़

200-300 वर्ग मीटर पर 2 पेड़

301-500 वर्ग मीटर पर 4 पेड़

500 वर्ग मीटर से प्रति 100 वर्ग मीटर पर 1 पेड़

औद्योगिक भूखंडों में

प्रति 80 वर्ग मीटर पर एक पेड़

व्यावसायिक भूखंड में

प्रति 100 वर्ग मीटर पर एक पेड़

सामुदायिक और खेल के भूखंड पर

कुल क्षेत्रफल के न्यूनतम 20 प्रतिशत पर

एक गु्रप हाउसिंग में होंगे 100 पेड़

वर्जन...

बॉयलाज का अध्ययन करने के बाद जो भी जरूरी कदम होगा वह उठाया जाएगा. वैसे भी हरियाली को लेकर पूरे देश में अभियान चल रहा है. वीडीए भी बनारस की हरियाली को लेकर गंभीर है. जिन भी कालोनियों में मकानों के आगे पौधे नहीं लगाये गये हैं, वहां पौधे लगाने के लिए कहा जाएगा.

-राहुल पांडेय, वीसी-वीडीए