अपने जन्मदिन पर एक बार फिर नीतीश कुमार ने जनता से मांगी माफी

-जेडीयू कार्यकर्ता सम्मेलन में तीर के निशाने पर रही बीजेपी

-नीतीश कुमार और शरद यादव ने केन्द्र को लिया निशाने पर

-सीएम नीतीश ने लालू सहित बीजेपी को भी दिखाई ताकत

patna@inext.co.in

PATNA: नीतीश कुमार के माफी मांगने का दौर जारी है. अपने जन्मदिन पर भी उन्होंने माफी मांगी. गांधी मैदान में जेडीयू के कार्यकर्ता सम्मेलन में एक बार फिर सीएम नीतीश कुमार ने माफी मांगी. एक बार नहीं, बल्कि कई बार माफी शब्द का उन्होंने इस्तेमाल किया. इतना ही नहीं, उन्होंने जीतन राम मांझी को भी निशाने लिया. उन्होंने कहा कि लोगों ने मुझे कहना शुरू कर दिया था कि कुछ बचेगा तब ना आप संभालिएगा. मैं लोगों के प्रति जवाबदेह था. पार्टी सर्वोपरि है. नौजवान मुझे कहने लगे आपने धोखा किया है. मैं अब कहता हूं कि मैं ऐसी गलती कभी नहीं करूंगा. अब मैं आ गया हूं चिंता करने की जरूरत नहीं है.

राजनाथ सिंह, नरेन्द्र मोदी व अमित शाह का ऑडियो

नीतीश कुमार ने काले धन के मुद्दे और जन-धन योजना से जुड़े बीजेपी के वायदों की पोल खोलने वाले बयान बीजेपी के नेताओं की जुबानी खोली. इसके लिए उन्होंने राजनाथ सिंह, नरेन्द्र मोदी और अमित शाह का ऑडियो सुनाया. नीतीश कुमार ने कहा कि कई खातों में तो एक भी पैसा नहीं है. कुछ तो डाल देते, बोहनी तो कर देते 10-15 हजार डालकर.

पूरे बिहार में करें एक दिन का उपवास

महंगाई व भूमि अधिग्रहण के सवाल पर नीतीश कुमार ने केन्द्र सरकार की खूब आलोचना की. उन्होने कहा कि पूरे बिहार में एक दिन का उपवास रखें. खासतौर से किसान प्रकोष्ठ से उन्होंने अपील की कि जन जागरण करें कि केन्द्र सरकार अध्यादेश वापस ले. उन्होंने कहा कि केन्द्र की नीति की वजह से बिहार को 1.3 करोड़ का नुकसान होगा. आरोप लगाया कि एक तरफ वृद्धि और दूसरी तरफ कटौती हो रही है. सेवा कर की वजह से लोगों को परेशानी झेलनी पड़ेगी.

कॉरपोरेट को राहत देने वाली सरकार

नीतीश कुमार ने कहा कि केंद्र ने अमीरों पर संपत्ति कर खत्म कर दिया. कॉरपोरेट को 30 परसेंट छूट दी गई. अच्छे दिन जिनके लिए आने थे आ गए. 9 माह में अरबपतियों- खरबपतियों की संपत्ति में 82 हजार 460 करोड़ का इजाफा हुआ है. एक अरबपति के पास तो 16 हजार 760 हजार करोड़ का इजाफा हुआ.

मुफ्ती को दी शुभकामनाएं

नीतीश कुमार ने मुफ्ती मुहम्मद सईद को शुभकामनाएं दी, फिर टेप सुनाया. इस बार उन्होंने वह टेप सुनाया जिसमें कहा गया था कि जम्मू में बाप-बेटा, बाप-बेटी के साथ कब तक.. इसी क्रम में नीतीश कुमार ने जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी के हवाले से कहा कि वे कह रहे थे कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी की दूसरी बार मौत होगी.

बिजली वाला टेप भी सुनिए

बिहार में बिजली की स्थिति नहीं सुधरेगी, तो हम जनता के बीच वोट मांगने नहीं जाएंगे. उन्होंने कहा कि सुन लीजिए मैंने क्या कहा था. बीजेपी कुछ और आरोप लगा रही है. उन्होंने कहा कि बिजली में सुधार आया है और सुधार आएगा. बीजेपी को अफवाह फैलाने वाली और लड़ाने वाली पार्टी बताते हुए नीतीश ने कहा कि तनाव फैलाने की लगातार कोशिश हो रही है, इसलिए हम सब एकजुट रहें. वो लोग कहते हैं इतने बच्चे पैदा करो. खुद तो किया नहीं पर दूसरों को सलाह जरूर देते हैं.

कहां है रोजगार का रोड मैप?

जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव ने जेडीयू कार्यकर्ता सम्मेलन में बीजेपी को ही निशाने पर रखा. उन्होंने कहा कि नौ माह बाद आया बजट उसके हक में है जो पूंजीपति हैं उनका सरचार्ज घटा दिया. पूंजीपतियों को ये राहत देते हैं. क्या है रोड मैप? कैसे रोजगार मिलेगा? इंग्लिश स्कूल के बच्चों को तो रोजगार मिल जाता है पर भारतीय भाषा के 95 परसेंट लोगों के रोजगार का रोड मैप क्या है?

..तब मिलेगी राशि?

शरद यादव ने कहा कि जन-धन योजना में एक-दो रुपए लगाओ आपको राहत मिलेगी ये कहा गया पर राहत कब मिलेगी जब सांस निकल जाएगी? ऐसी योजना दुनिया में कहीं बनी है क्या? वे किसानों को कर्ज देने की बात करते हैं पर कर्ज से तो आत्महत्या कर रहे हैं. केन्द्र की सरकार उनके बारे में कुछ नहीं कहती जिनके पास बैंकों का हजारों करोड़ रुपया है. हिन्दुस्तान का नौजवान-किसान परेशानी में है. उन्होने कहा गंगा को नमामि गंगे बना दिया. गंगा को हिन्दू-मुस्लिम में बांटते हैं ये. गंगा से खिलवाड़ नहीं करो.

10 घर पर एक सक्रिय कार्यकर्ता

कार्यकर्ताओं की संख्या बढ़ाने पर भी उन्होंने जोर दिया. कायकर्ताओं से कहा कि हर 10 घर पर एक सक्रिय कायकर्ता होना चाहिए. कार्यक्रम के दौरान उन्होने कहा कि लड़ाई हिन्दू-मुस्लिम का नहीं है. लड़ाई तो उदारवादी हिन्दू और कट्टरपंथ हिन्दू में है. लोहिया ने कहा था कि जब-जब उदारपंथ का शासन रहा देश मजबूत हुआ. सम्मेलन खत्म हुआ तो कायकर्ताओं ने भीड़ का आकलन शुरू कर दिया. किसी ने कहा 40 हजार तो किसी ने कहा एक लाख. इस दौरान एक कार्यकर्ता का कहना था कि यदि एक विधायक 10 हजार कायकर्ता ले आता, तो भीड़ और बढ़ सकती थी.

The other side

...और खुल गई नेता जी की धोती

बिहार सरकार के मिनिस्टर रमई राम इन दिनों काफी नाराज चल रहे हैं. उन्हें डिप्टी सीएम का पोस्ट चाहिए. पर कार्यक्रम के दौरान जब वो मंच पर आए, तो उनकी धोती ही खुल गई. मंच पर ही उन्होंने बिना किसी लोकलाज के धोती को उठाया और पहना. मंच पर बैठे पुरुष विधायक से लेकर महिला विधायक मुस्कुराते रहे. वहीं, भीड़ भी अपनी हंसी को रोक नहीं पाई और लोटपोट होकर हंसते रहे.