- उभ्भा गांव के पीडि़तों से मिले सीएम, सुरक्षा व सुविधाओं को लेकर की तमाम घोषणाएं

- मृतकों के परिवारीजनों को 18.50 लाख व घायलों को 2.50 लाख रुपये की मदद

- सभी भू-माफियाओं पर एनएसए के तहत होगी कार्रवाई

-ओबरा तहसील व करमा व कोन को ब्लॉक बनाने की घोषणा

LUCKNOW@inext.co.in
LUCKNOWसीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा आदिवासी, वनवासी, मुसहर लोगों को सम्मान, सुरक्षा और अधिकार दिलाना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इस मौके पर उन्होंने पीडि़तों से मुलाकात कर उनका हाल जाना, हमले के बारे में विस्तार से जानकारी ली और मृतकों के परिजनों से शोक संवदेना व्यक्त करते हुए सुरक्षा और उन्हें सुविधाएं देने का आश्वासन दिया। सीएम घायलों का हाल जानने जिला अस्पताल भी पहुंचे और पूरा इलाज कराने का भरोसा भी दिलाया। योगी ने उभ्भा में 1955 से लेकर अब तक हुए जमीन के खेल की जांच कराने और दोषियों को कड़ी सजा दिलाने की भी बाकही।

 

राजनीतिक साजिश की देन है घटना
उभ्भा में सीएम सीधे मृतकों के परिजनों के घर पहुंचे। एक-एक कर सभी से मुलाकात की। सीएम ने परिजनों से कहा कि अब कोई समस्या नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने घायलों व मृतकों के परिवारी जनों को सहायता राशि का 50-50 हजार रुपये का चेक दिया। घटनास्थल का जायजा लेने के बाद वे जिला अस्पताल पहुंचे। जहां उन्होंने घायलों से मुलाकात कर उनका हाल जाना और डॉक्टर्स से उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी हासिल की। सीएम ने कहा सन् 1955 में जिस समय ग्रामसभा की बंजर जमीन को एक सोसाइटी के नाम किया गया उस समय कांग्रेस की सरकार थी। सोसाइटी कांग्रेस के ही एक एमएलसी के नाम थी। 1989 में जिस समय सोसाइटी की जमीन को कुछ व्यक्तियों के नाम किया गया, उस समय भी कांग्रेस की ही सरकार थी। यह घटना राजनीतिक साजिश की देन है। कांग्रेस घटना को लेकर घडि़याली आंसू बहा रही है। उन्हें तो घटना के पीडि़तों से माफी मांगनी चाहिए, क्योंकि इन्हीं की देन है कि इतनी बड़ी घटना हुई।

 

घटना के आरोपी सपा-बसपा कार्यकर्ता
सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि घटना का मुख्य आरोपी ग्राम प्रधान यज्ञदत्त सपा का कार्यकर्ता है। जबकि, उसका भाई बसपा का कार्यकर्ता है। पूरी घटना की जांच हो रही है। दोषियों पर कड़ी कार्रवाई होगी। सीएम ने मृतकों के परिवार को 18.50 लाख व घायलों को 2.50 लाख रुपये मदद का आश्वासन दिया। उन्होंने सोनभद्र के विकास के लिए अधिकारियों को एक साल का समय दिया। इस दौरान भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, मुख्य सचिव डॉ। अनूप चंद्र पांडेय व डीजीपी ओपी सिंह भी मौजूद रहे।

 

राजस्व परिषद की टीम करेगी जांच
सोनभद्र में 1955 से लेकर अब तक राजस्व से जुड़े सभी मामलों, उनके विवाद व जमीन से संबंधित मामलों में हुए खेल की जांच राजस्व परिषद के अध्यक्ष की अध्यक्षता वाली टीम करेगी। सीएम ने कहा कि जांच के दौरान जमीन की मै¨पग होगी। वन जमीन की अलग से मै¨पग की जाएगी। उभ्भा के मामले की जांच की जा रही है। 10 दिन में रिपोर्ट मांगी है। सभी भू-माफियाओं पर एनएसए के तहत कार्रवाई होगी।

 

घोषणाओं की बौछार
सोनभद्र में पीडि़तों से मिलने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने क्षेत्र के विकास और सुरक्षा के लिये घोषणाओं की बौछार कर दी। उन्होंने कहा कि लोगों से बातचीत में इलाके में सुरक्षा की जरूरत बताई गई, इसके लिये उम्भा गांव के करीब जल्द एक पुलिस चौकी की स्थापना की जाएगी। घोरावल तहसील में एक फायर स्टेशन खुलेगा। छात्र-छात्राओं के लिये आश्रम पद्धति के दो नये आवासीय स्कूल खोले जाएंगे। रोजगार के लिये तीन स्किल डेवलपमेंट सेंटर को भी उन्होंने मंजूरी दी। इसके अलावा ओबरा को तहसील व कोन व करमा को ब्लॉक बनाने का तोहफा दिया।

Posted By: Inextlive